💻RAM क्या है; RAM की Full Form; RAM कितने प्रकार की होती है

आज के समय में लगभग सभी Smartphone, Computer और Laptop का इस्तेमाल करते ही है तब आप RAM, और ROM के बारे में तो ज़रूर शुने होंगे। RAM प्राथमिक मेमोरी का एक भाग है। जब हम स्मार्टफोन, कंप्यूटर आदि डिवाइस खरीदने जाते है तब हम उस डिवाइस के RAM के बारे में ज़रूर पूछते है क्यों कि RAM का कैपेसिटी ज़्यादा होने से हम विशेषत स्मार्टफोन में कोई भी बड़े साइज की एप्लिकेशन का उपयोग कर सकते है। 

आपके जानकारी के लिए बता दें कि Computer, Smartphone जैसे डिवाइस का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा operating system है। RAM, ROM इस ऑपरेटिंग सिस्टम का ही एक मुख्य हिस्सा होता है, जिसके बिना इन डिवाइस का कोई महत्व ही नहीं है। तो क्या आप जानते है RAM Kya Hai; RAM का Full Form क्या है; RAM कितने प्रकार के होते है; इसका कार्य यदि नहीं तो यह पोस्ट आप सभी के लिए बहूत उपयोगी होने वाला है।

RAM क्या है

कंप्यूटर मेमोरी का एक भाग प्राइमरी मेमोरी है। RAM भी एक प्राइमरी मेमोरी है, यह तो आप सभी ज़रूर जानते है। परन्तु, RAM Kya Hai के बारे में बताएं तो RAM यानी रैंडम एक्सेस मेमोरी एक ऐसा क्षेत्र है, जहां Input Device से प्राप्त तथ्यसामग्री अस्थायी रूप से संचित होता है, इस मेमोरी में यूजर बहुत आसानी से किसी भी तथ्य को पढ़ और लिख सकता है। 

परन्तु, यदि किसी भी कारणवश विद्युत प्रवाह बंद हो जाए तब RAM से सारे तथ्य डिलीट हो जाता है। इसीलिए, RAM को Volatile Memory भी कहा जाता है। यहां सिर्फ current तथ्य संचित होता है। इस कारण डिवाइस के सभी तथ्य को hard disk में save करके रखना चाहिए। 


RAM का Full Form

RAM का Full Form Random Access Memory है, अर्थात यादृच्छिक अभिगम स्मृति। RAM में सभी तथ्य अस्थायी रूप से यानी Temporarily स्टोर होता है। RAM system software की processing में सहायता करता है।


RAM कितने प्रकार के होते है

RAM क्या है, RAM का सम्पूर्ण नाम क्या है आदि के विषय जानकारी प्राप्त करने के बाद, अब आपके मन में यह सवाल ज़रूर आया होगा कि RAM Kitne Prakar Ka Hota Hai इसके उत्तर में बता दें कि RAM मुख्य रूप से दोनों प्रकार का होता है Static RAM, और Dynamic RAM। इन दोनों प्रकार के RAM के बारे में हमने नीचे विस्तार में बताया है।

  1. Static RAM (स्टेटिक RAM)

Computer यदि किसी कारणवश बंद हो जाए या फिर हम जब कंप्यूटर को shut down करते है तब, RAM का सभी तथ्य नष्ट हो जाता है। तथ्य को Fast Access करने के लिए जिस प्रकार के RAM का उपयोग किया जाता उसे SRAM अर्थात, Static RAM कहां जाता है।

Static RAM

साधारण तौर पर स्टेटिक RAM ट्रांजिस्टर टेक्नोलॉजी के माध्यम से तैयार किया जाता है। और, Dynamic RAM के तुलना में यहां बहुत ज़्यादा ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल होता है। इसीलिए यह RAM बहूत ही कम समय में किसी भी तथ्य को आसानी से Access कर सकता है।

Static RAM एक्सपेंसिव यानी बहुत महंगा होता है। Static RAM को Flip Flop के साथ जुड़ कर बनाया जाता है जिस कारण इसको Refresh करने की कोई ज़रूरत नहीं होती है। इस प्रकार का RAM बहुत ही कम संख्यक Computer में इस्तेमाल होता है। मुख्यत रूप से video card में Static RAM का इस्तेमाल किया जाता है।

विशेषताएं

  • Static RAM आकार में बड़ा होता है और इसका गति बहुत ज़्यादा होता है।
  • यह RAM बहूत दिनों तक चलता है और इसका durability अर्थात, सहनशीलता भी अच्छा होता है।
  • Static RAM को ज़्यादा refresh करने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • इस प्रकार के RAM का उपयोग CPU के Cache memory के लिए किया जाता है। 

  1. Dynamic RAM (डायनामिक RAM) 

इस प्रकार के RAM को आमतौर पर Capacitor Technology के माध्यम से तैयार किया जाता है, यहां इस्तेमाल होने वाला Capacitor का Electrical Charges बहुत जल्द खत्म हो जाता है, इसीलिए इस RAM को Refresh करने की जरूरत होती है अर्थात, यह RAM प्रति सेकंड में हजार बार रिफ्रेश होता है। 

Dynamic Memory का कार्यगति बहूत ही कम होता है और उसी के साथ इस RAM का कीमत भी बहुत कम है, यह डायनामिक RAM Static RAM के तुलना मे 4 गुना ज़्यादा डाटा संरक्षण करके रख सकता है। इसीलिए, ज़्यादातर Computer में Dynamic RAM का इस्तेमाल किया जाता है। 

विशेषताएं

  • Dynamic RAM आकार में छोटा होता है और इसका गति बहूत कम होता है।
  • SRAM के तुलना में इस प्रकार के RAM का durability अर्थात, सहनशिलता बहूत कम है।
  • Dynamic RAM को बार बार रिफ्रेश किया जा सकता है।
  • Cache Memory में RAM के इस प्रारूप का उपयोग किया जाता है।

Dynamic RAM के कुछ प्रारूप है जैसे SDRAM, ADRAM, DDR SDRAM, CDRAM, RDRAM।

SDRAM

SDRAM की फूल फोरम Synchronous Dynamic Random Access Memory। इस प्रकार के RAM की गति प्रत्यक्ष रूप से CPU clock के साथ सिंक्रोनाइज रहेता है।

ADRAM 

ADRAM की Full Form Asynchronous DRAM। यह डायनामिक RAM का एक प्रारूप है, जो asynchronously अर्थात, अतुल्यकालिक रूप से मेमोरी डिवाइस को नियंत्रण करता है।

DDR SDRAM

DDR SDRAM का सम्पूर्ण नाम (Full Form) Double Data Rate SDRAM है। यह SDRAM का एक वर्जन है जो बहुत तेज़ गति से कार्य करता है। इस प्रकार का RAM High rate तथ्य को एक्सेस कर सकता है।

CDRAM

CDRAM का फूल फॉर्म है Cache DRAM। यह Dynamic RAM का एक मुख्य भाग है। यह RAM डायनामिक RAM के लिए तेज़ गति संपन्न buffer का कार्य करता है। 

RDRAM

RDRAM का फूल फॉर्म है Rambus DRAM। यह  CPU मेमोरी का एक पतला बस के ज़रिए high rate data को ट्रांसफर करता है। इसका data bus width 8 bit है।


RAM का कार्य

कंप्यूटर, स्मार्टफोन जैसे सिस्टम में RAM का एक महत्वपूर्ण भूमिका है। RAM के बिना यह सब डिवाइस का कोई अस्तित्व ही नहीं है। कंप्यूटर को start करना RAM का पहेला कार्य है। RAM सिस्टम सॉफ्टवेयर को प्रोसेस करने में सहायता करता है। इस प्रकार के प्राइमरी मेमोरी में ही ऑपरेटिंग सिस्टम रहेता है। ऐसे ही RAM का बहूत सारा कार्य है जैसे

  1. RAM कंप्यूटर का मुख्य मेमोरी है। इसका मुख्य कार्य है प्राप्त सभी तथ्य, instruction को CPU में प्रेरण करना।
  1. कंप्यूटर पर वर्तमान समय में जिस डाटा के आधार पर कार्य हो रहा है उस निर्धारित तथ्य को संचित करके रखना RAM का और एक महत्वपूर्ण कार्य है।
  1. RAM कंप्यूटर, स्मार्टफोन के प्रोग्राम को run करवाने में सहायता करता है।
  1. RAM कंप्यूटर को अपना कार्य करने के लिए स्पेस देता है ताकि, कंप्यूटर अपना सारा कार्य यानि डाटा प्रोसेसिंग, ब्राउजिंग, तथ्य लोडिंग आदि संपादन कर सके।
  1. कंप्यूटर के सभी फाइल, डॉक्यूमेंट को RAM अस्थायी रूप में संचित रखता है। 

RAM कैसे काम करता है

इस पोस्ट के माध्यम से इससे पहले आपने RAM के कार्य के बारे में जानकारी प्राप्त किया है। अब आपके मन में यह सवाल ज़रूर आया होगा कि RAM Kaise Kam Karta Hai। तो चलिए RAM के कार्य के बारे में जान लेते है। आमतौर पर, RAM संचित तथ्य को एक Set के रूप में CPU को प्रदान करता है। 

और, CPU उस तथ्य को प्रोसेस करने के बाद, यूजर को Output प्रदान करता है। अर्थात, RAM प्रोग्राम को प्रोसेस करवाने में सहायता करता है। RAM Chip में Row और Column का grid रहेता है जिसे, कनेक्ट करने के लिए RAM ट्रांजिस्टर का प्रयोग करता है।

हम सभी स्मार्टफोन, कंप्यूटर में बहूत सारे फाइल, डॉक्यूमेंट, वीडियो, या फिर फोटो आदि डाउनलोड करके रखते है और, यह सभी फाइल कंप्यूटर के इंटरनल व एक्सटर्नल डिवाइस में संचित होता है। और, जब हम उस फाइल के तथ्य को पढ़ते है, या फिर वीडियो को देखते है अर्थात, उस फाइल का उपयोग करते है तब वह स्टोरेज RAM के द्वारा प्रोसेस होता है।

जिस कारण, हमें अधिक क्षमता संपन्न RAM का उपयोग करना चाहिए, यदि आप कम क्षमता संपन्न RAM का इस्तेमाल करते है तब आपके डिवाइस का कार्य गति बहुत कम हो जाएगा, आप जब कोई बड़ा फाइल डाउनलोड करके उसका उपयोग करते है तब वह ज़्यादा स्टोरेज के कारण Device Hang होने लगता है। 


RAM और ROM में क्या अंतर है

अब तक इस पोस्ट के माध्यम से आप RAM के बारे में तो जान गए हैं और साथ ही ROM के विषय में भी आप थोड़ा सा जानकारी प्राप्त कर चुके है। RAM और ROM दोनों ही प्राइमरी मेमोरी है।

RAM कंप्यूटर का सिस्टम सॉफ्टवेयर को प्रोसेस करता है, यहां तथ्य को लिखा और पढ़ा जा सकता है। दूसरी तरफ, ROM में तथ्य को सिर्फ पढ़ा जा सकता है। ऐसे ही RAM और ROM में बहूत सारे अंतर है जिसके बारे में हमने नीचे बताया है। ROM क्या है इसके बारे मे विस्तार से आप यहाँ पढ़ सकते है।

बिषयRAMROM
Volatile Memory/ Non  Volatile MemoryRAM में तथ्य temporarily अर्थात, अस्थायी रूप से संचित रहेता है। यदि किसी कारणवश विद्युत संजोग बंद हो जाए तब RAM में संचित सभी डाटा नष्ट हो जाता है। इस कारण RAM को Volatile Memory कहेते है।ROM में तथ्य permanently अर्थात, स्थायी रूप से संचित रहेता है। यदि किसी कारणवश विद्युत संजोग बंद हो जाए तब भी ROM में संचित सभी डाटा सुरक्षित तरीके से संचित रहेता है। इस कारण ROM को Non Volatile Memory बोलते है।
सम्पूर्ण नाम    2.  RAM का सम्पूर्ण नाम है Random Access Memory।2. ROM का सम्पूर्ण नाम है Read Only Memory।

कार्य

3. RAM कंप्यूटर, स्मार्टफोन का सिस्टम सॉफ्टवेयर को प्रोसेस करवाने में सहायता करता है।

3. ROM कंप्यूटर, स्मार्टफोन जैसे डिवाइस में डॉक्यूमेंट, फाइल, एप्लिकेशन आदि स्थायी रूप से संचित रखने में सहायता करता है।
4. आकार    4.  RAM का आकार ROM के तुलना में छोटा होता है।    4.  ROM का आकार RAM के तुलना में बड़ा होता है।
5. संचित तथ्य का आकार  5. RAM तथ्य को Gigabyte के रूप में संचित रखता है। RAM में संचित तथ्य का आकार आमतौर पर, 1GB से लेकर 8GB व उससे भी ज़्यादा होता है।  5. ROM का डाटा स्टोर कैपेसिटी कई Megabyte है।
  6.   तथ्य ग्रहण गति  6. ROM के तुलना में RAM का तथ्य ग्रहण गति बहूत ज़्यादा है। इस मेमोरी के गति को MHZ, GHZ के द्वारा नापा जाता है।    6. RAM के तुलना में ROM का तथ्य ग्रहण गति बहूत कम होता है।
    7. कॉस्ट    7. RAM का कीमत ROM के तुलना में ज़्यादा है।    7.  ROM का कीमत RAM के तुलना में कम है। 
    8. प्रकार    8. RAM दोनों प्रकार का होता है जैसे, Static RAM, Dynamic RAM।      8. ROM चार प्रकार का होता है जैसे, MROM, PROM, EPROM, EEPROM।

Static RAM और Dynamic RAM में अंतर

Static RAMDynamic RAM
1.स्टेटिक RAM में ट्रांजिस्टर टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है।1.डायनामिक RAM में कैपेसिटर टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाता है।
2.SRAM को रिफ्रेश करने की जरूरत नहीं होती है। 2. DRAM को रिफ्रेश करने की जरूरत होती है।
3.यह RAM एक्सपेंसिव है। 3. यह RAM थोड़ा सस्ता है।
4.SRAM का तथ्य ग्रहण गति बहूत कम है। 4.DRAM का तथ्य ग्रहण गति बहूत ज़्यादा है।

RAM से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न उत्तर

1) कंप्यूटर में RAM का उपयोग क्या है?

RAM के सहायता से कंप्यूटर का सिस्टम सॉफ्टवेयर का प्रोसेसिंग होता है। 

2) RAM कितने प्रकार के होता है

RAM 2 प्रकार के होते है, तथा स्टेटिक RAM और डायनामिक RAM।

3) RAM के विशेषताएं?

i) RAM प्राइमरी मेमोरी का एक भाग है।
ii) RAM में तथ्य लिखना और पढ़ना दोनों ही संभव है।
iii)RAM में तथ्य अस्थायी रूप से संचित रहेता है।

4) RAM कंप्यूटर में कहां रहता है?

कंप्यूटर में RAM CPU में स्थित रहता है।

5) Flip Flop क्या है?

Flip Flop कंप्यूटर का एक बेसिक डिवाइस है जो binary digit यानि 0 और 1 को स्टोर करके रखता है।

सारांश –

आज के इस पोस्ट पर हमने RAM क्या है; इसके प्रकार के बारे में पूरे विस्तार में बताया है। हमें उम्मीद है आज के ईस ब्लॉग पोस्ट को पढ़कर आप जरूर जान गए होंगे कि RAM क्या है, इसका क्या कार्य है।

यदि इस पोस्ट को पढ़कर आपके मन में RAM से संबंधित कोई सवाल है, तो आप बेझिझक नीचे कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके हमें पूछ सकते हैं। अगर आपको लगे की यह पोस्ट आप सभी के लिए उपयोगी है, तब आप Logicaldost के और भी कई पोस्ट को पढ़ सकते हैं।

आपके काम के अन्य पोस्ट –

में LogicalDost.in पर Content Writer हूं। मुझे Banking, Finance और Computer के विषय में पोस्ट लिखना पसंद है और इसी के साथ मुझे Books पढ़ना बहुत अच्छा लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here