Top 10 smartphone myths: Smartphone Ke Bare Me Galat Bate

हमारी जिंदगी को टेक्नोलॉजी ने बहुत आसान और सरल बना दिया, आज हर काम हम टेक्नोलॉजी की मदद से करते हैं और ज्यादा कर कामों के लिए हम टेक्नोलॉजी पर ही निर्भर रहते हैं, अगर हम बात करें हमारे सुबह उठने से लेकर शाम तक की तो हम टेक्नोलॉजी के साथ ही उठते हैं और टेक्नोलॉजी के साथ ही सोते हैं क्योंकि सुबह उठते ही हम सबसे पहले अपने मोबाइल फोन या फिर लैपटॉप को ही संभालते हैं और ऐसा शाम होने तक चलता रहता है जब तक कि हम जो ना जाए। इसलिए हम कह सकते हैं कि टेक्नोलॉजी हमारे दिल और दिमाग में बस गई है अगर टेक्नोलॉजी के बगैर जिंदा रहना पड़े तो इस समय हमारे लिए ऐसा करना बहुत ज्यादा मुश्किल हो जाएगा।

आज की इस पोस्ट में हम टेक्नोलॉजी से जुड़े कुछ गलत धारणाओं के बारे में जानेंगे जो लोगों ने मानी हुई है (Top 10 smartphones myths) और जिनके कारण आपको कई बार दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा होगा।

Top 10 smartphone myths: Smartphone Ke Bare Me Galat Bate

क्या आपके मोबाइल को किसी एंटीवायरस की जरूरत है

दोस्तों यह बहुत बड़ी गलत धारणा है कि आपके स्मार्टफोन को किसी एंटीवायरस की जरूरत है बहुत से लोग ऐसे हैं जो अपने स्मार्टफोन में एक एंटीवायरस रखते हैं और यह मानते हैं कि यह एंटीवायरस अपने स्मार्टफोन में कभी वायरस नहीं आने देगा या फिर इस एंटीवायरस की मदद से आपका स्मार्टफोन बहुत ज्यादा तेज काम करेगा लेकिन दोस्तों आपको बता दूं कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता आपके स्मार्टफोन को किसी भी एंटीवायरस की जरूरत ही नहीं आपके स्मार्टफोन में आपकी मोबाइल प्रोवाइडर कंपनी पहले से सिक्योरिटी पैच देती है जिससे आपके स्मार्टफोन में कभी वायरस अटैक ना हो। दोस्तों अगर आप मानते हो कि ऐसे एंटीवायरस आपके स्मार्टफोन की स्पीड को बढ़ाते हैं तो आप बिल्कुल गलत है, क्योंकि एंटीवायरस आपके स्मार्टफोन की स्पीड बढ़ाने की बजाए घटा देते हैं लेकिन आपको लगता है कि इस एंटीवायरस से आपके स्मार्टफोन की स्पीड बढ़ गई लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता इसलिए कभी भी किसी भी एंटीवायरस का प्रयोग अपने स्मार्टफोन में ना करें।

सभी ऐप्स को बार-बार बंद करना

यह आम बात हो गई है कि जब भी हम लोग किसी भी ऐप को ओपन करते हैं और उस पर हमारा काम पूरा हो जाता है या फिर किसी समय हम उस एप्लीकेशन को यूज नहीं कर रहे होते हैं तो हम रेम को क्लियर कर देते हैं, मतलब की इस ऐप को हटा देते हैं और सब कुछ बंद कर देते हैं लेकिन दोस्तों आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ऐसा करने से आपके स्मार्टफोन की बैटरी बहुत कम चलती है, बहुत से लोगों का यह मानना है कि बार-बार एप्लीकेशंस को बंद करने से उनकी बैटरी बच जाती है लेकिन दोस्तों होता इसका बिल्कुल विपरीत है ऐसा करने से आपकी बैटरी बहुत जल्दी खत्म हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि जब आप किसी एप्लीकेशन को ओपन करते हैं तो प्रोसेसर अपनी पूरी प्रक्रिया करता है उसे ओपन करने से लेकर इसके अंदर आप पहले क्या कर रहे थे यह सारी प्रक्रिया प्रोसेसर को उस समय पूरी करनी होती है, लेकिन जब आप इस ऐप को काम में ले लेते हो और सोचते हो कि अब मैं इसे बंद कर दू जब दोबारा जरूरत पड़ेगी तो वापस से ओपन कर लूंगा ऐसे मैं जब आपसे दोबारा से ओपन करते हो तो प्रोसेसर को दोबारा से वही प्रक्रिया रिपीट करनी पड़ती है जिससे आपकी बैटरी में काफी फर्क पड़ता है, धीरे धीरे आप की बैटरी डाउन भी होने लगती है

फोन को रात में चार्ज लगाकर नहीं सोना चाहिए

दोस्तों आपने बहुत बार अपने मित्रों और रिलेटिव से यह सुना होगा कि रात में मोबाइल को चार्ज लगाकर कभी मत छोड़ना वरना सुबह तक याद तो मोबाइल खराब हो जाएगा या फिर आपका मोबाइल ब्लास्ट हो जाएगा, लेकिन दोस्तों देखा जाए तो ऐसा बिल्कुल नहीं होता आजकल के स्मार्टफोंस में यह फीचर अवेलेबल है कि अगर हमारा स्मार्ट फोन फुल चार्ज हो जाता है उसके बाद वह इलेक्ट्रिसिटी अपने अंदर लेगा ही नहीं और वह इन एक्टिव हो जाएगा मतलब कि आपके मोबाइल फोन के अंदर करंट जाएगा ही नहीं, दोस्तों अगर आपको भी रात में मोबाइल चार्ज लगाने की आदत है या फिर आप रात में मोबाइल चल रहा कर सोना चाहते हो और सुबह जब भी उठो तो उसे फुल चार्ज में पाना चाहते हो तो आप ऐसा आसानी से कर सकते हो क्योंकि इसमें कोई भी दिक्कत नहीं होती।

किसी दूसरी कंपनी के चार्जर से मोबाइल को कभी चार्ज नहीं करना चाहिए

दोस्तों आपने बहुत बार ऐसा सुना होगा कि किसी दूसरी कंपनी के चार्जर से मोबाइल चार्ज नहीं करना चाहिए वैसे देखा जाए तो यह बात सही भी है क्योंकि हमें उसी चारजर से अपना फोन चार्ज करना चाहिए जो हमारे चारजर से मैच करता हो, लेकिन दोस्तों आप किसी ब्रांडेड कंपनी के चार्जर से अपना स्मार्टफोन चार्ज कर सकते हो उसमें बिलकुल भी आपके स्मार्टफोन को दिक्कत नहीं होगी बस आप को ध्यान में नहीं रखना होगा कि उस चार्जर का आउटपुट आपके चार्जर के आउटपुट से मैच करता हूं जंगली सभी स्मार्ट फोन चारजर 5 वोल्ट के होते हैं ऐसे में आपको बस यही ध्यान में रखना होगा कि आपका चार्जर किसी ब्रांडेड कंपनी का हो और आपके चार्जर का बोल्ड आपके ओरिजिनल चार्जर जो कि मोबाइल के साथ आया था उसके आउटपुट वोल्ट के बराबर हो।

ज्यादा रैम होने से आपका फोन ज्यादा फास्ट होगा

दोस्तों आप मेरे से ज्यादा कर लो यही मांगते होंगे कि ज्यादा रेम होने से आपका स्मार्टफोन ज्यादा फास्ट होगा लेकिन दोस्तों यह सच नहीं है क्योंकि आपके मोबाइल के स्मार्ट फोन की स्पीड केवल रेम पर डिपेंड नहीं करती फ्रेम के साथ और भी कई चीजें होती है जो आपके मोबाइल की स्पीड पर डिपेंड करती है, जैसे कि अगर आपके स्मार्टफोन में अच्छा प्रोसेसर नहीं होगा और वह बहुत ज्यादा होगी तो भी आपका स्मार्टफोन फास्ट काम नहीं करेगा क्योंकि जब तक अच्छा प्रोसेसर आपको नहीं मिलेगा तब तक आपके स्मार्टफोन में कितनी ज्यादा भी रेम हो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता। प्रोसेसर के साथ साथ आपके स्मार्टफोन का हार्डवेयर भी इस बात पर डिपेंड करता है कि आपके मोबाइल की स्पीड कितनी होगी अगर आपके स्मार्टफोन का अच्छा हार्डवेयर होगा और अच्छा प्रोसेसर होगा तो आपके स्मार्टफोन की स्पीड काफी अच्छी मिलेगी।

One Comment on “Top 10 smartphone myths: Smartphone Ke Bare Me Galat Bate”

Leave a Reply