🪟Windows क्या है? Windows कितने प्रकार का होता है? इसके कार्य

Software के बिना Computer अधूरा है। ठीक जैसे Computer का शरीर उसका हार्डवेयर है उसी तरह सॉफ्टवेयर Computer की आत्मा है। आज Computer इतना लोकप्रिय और दैनिक जीवन का हिस्सा इसलिए हो पाया है क्यूंकी इसमे सॉफ्टवेयर का बहूत ही बड़ा योगदान रहा है।

windows kya hai iske prakar

अलग-अलग प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम अपने अलग-अलग प्रकार के Application सॉफ्टवेयर प्रोग्राम रन करने के लिए जाने जाते है। वे सभी किसी खास प्रकार के कार्य को करने के लिए जाने जाते है। जैसे की लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम ऑटमैशन और हैकिंग करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। तो इसी तरह ऑपरेटिंग सिस्टम (सिस्टम सॉफ्टवेयर) की दुनिया मे Windows ऑपरेटिंग अपने सुंदर, आसान ग्राफिकल यूजर इंटरफेस के लिए सबसे ज्यादा फेमस है।

इस आर्टिकल मे आज आप Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे मे जानेंगे। साथ ही हम इसके प्रकार के बारे जानेंगे तथा अंत मे Windows क्या काम करता है, यह दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से कैसे अच्छा है इसके बारे मे भी डीटेल मे जानेंगे। तो चलिए सबसे पहले Windows क्या है इसके बारे मे जानते है।

Windows क्या है?

Windows  एक प्रकार सिस्टम सॉफ्टवेयर है। इसे ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम से भी जानते है क्यूंकी यह एक सिस्टम को Operate करने का कार्य करता है। यह दूसरे अन्य ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर के तरह ही है उदाहरण के लिए: Linux (लिनक्स), Ubuntu (उबउनटु), Redhat इत्यादि।

operating-system-photo

लेकिन यह दूसरे अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना मे अलग है क्यूंकी एक नॉर्मल Computer यूजर के लिए दूसरे सिस्टम सॉफ्टवेयर के तुलना मे इसे चलाना बेहद आसान है इसका ग्राफिकल यूजर इंटरफेस जिसे शॉर्ट मे GUI भी कहते है काफी ज्यादा अट्रैक्टिव और साफ-सुथरा है। ये सभी फीचर्स Windows को दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से सबसे अलग बनाते है।

Windows माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा बनाया गया है। माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा Windows का पहला वर्शन Window 1.0, 20 November, 1985 मे रिलीज़ किया गया था। Windows 7 के बाद Windows 10 दूसरा सबसे स्टेबल वर्शन रहा है। Window 11 अब तक का सबसे लेटेस्ट वर्शन है, जिसे Finally 5 October 2021 में रिलीज़ किया गया था। चलिए अब हम Windows कितने प्रकार का होता है इसके बारे मे जानते है।


Windows कितने प्रकार का होता है?

वैसे तो हम Windows को कई तरह से विभाजित कर सकते है, जैसे की उसके आर्किटेक्चर के आधार पर, उसके वर्ज़न के आधार पर, उसके फीचर के आधार पर, उसके कार्ये करने के Functionality के आधार पर इत्यादि। लेकीन नीचे आपको आर्किटेक्चर, वर्ज़न और Functionality के आधार पर Windows के प्रकार के बारे मे बताया गया है।

1. आर्किटेक्चर  के आधार पर Windows के प्रकार

आर्किटेक्चर के आधार पर Windows दो प्रकार के होते है:

  1. 32 बिट आर्किटेक्चर: इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम 32 बिट हार्डवेयर आर्किटेक्चर पर रन होते है। यह जरूरत पड़ने पर 64 बिट आर्किटेक्चर पर भी रन हो सकते है।
  2. 64 बिट आर्किटेक्चर: यह सिर्फ 64 बिट हार्डवेयर आर्किटेक्चर पर रन होते है। इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को 32 बिट हार्डवेयर आर्किटेक्चर पर रन नहीं किया जा सकता है।

2. Functionality के आधार पर Windows के प्रकार

कार्य करने के Functionality के आधार पर Windows ऑपरेटिंग सिस्टम को निम्नलिखित प्रकार मे बाँटा गया है।

  1. Single User OS: सिंगगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम केवल एक ही यूजर के लिए होता है इसमे एक समय मे केवल एक ही यूजर कार्य कर सकता है।
  2. Multiple User OS: इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम बहू यूजर को एक साथ कार्य करने के लिए बनाए जाते है। इसमे एक साथ मे एक से अधिक यूजर Computer का इस्तेमाल करते है।
  3. Multitasking OS: यह मल्टीटैस्किंग के उदेश्य के लिए बनाया गया है।
  4. Multithreading OS इत्यादि।

3. Version के आधार पर Windows के प्रकार

वर्ज़न के आधार पर Windows को निम्नलिखित प्रकार मे बाँटा गया है।

A. Personal Computer Versions

पर्सनल Computer वर्ज़न वैसे प्रकार के वर्ज़न है जिसे डायरेक्ट एंड यूजर के पर्सनल Computer, लैपटॉप और डेस्कटॉप पर इंस्टॉल किया जाता है। यह क्लाइंट वर्ज़न कहलाता है।

इस प्रकार के वर्ज़न मे Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के कई सारे वर्ज़न के नाम शामिल है जिसे नीचे दिए गए है।

  1. Windows 1.0
  2. Windows 2.0
  3. Windows 3.0
  4. Windows 3.1
  5. Windows 95
  6. Windows 98
  7. Windows NT
  8. Windows XP
  9. Windows Vista
  10. Windows 7
  11. Windows 8
  12. Windows 8.1
  13. Windows 10
  14. Windows 11 (Latest)

B. Embedded Versions

इस प्रकार के वर्ज़न एम्बेडेड हार्डवेयर डिवाइस के लिए बनाया गया था। जिसमे किसी फिक्स प्रोग्राम को लोड करके उसे बार चलाने की जरूरत होती है जरूरत पड़ने पर नए प्रोग्राम को भी लोड करने की जरूरत पड़ती है। इसके उदाहरण है नीचे दिए गए है ;

  1. Windows CE 1.0 (November 1996)
  2. Windows CE 2.0 (September 1997)
  3. Windows CE 2.1 (1998 July)
  4. Windows CE 2.11 (1998 October)
  5. Windows CE 2.12 (1999 August)
  6. Windows Embedded Compact
  7. Windows Embedded Compact 7
  8. Windows Embedded Compact 2013
  9. Windows Embedded इत्यादि।

C. Mobile Versions

मोबाइल वर्ज़न Windows के उन वर्ज़न को सूचित करता है जो स्मार्टफोन या व्यक्तिगत डिजिटल डिवाइस पर चल सकते हैं। इनके नाम नीचे दिए गए है।

  1. Pocket PC 2000
  2. Pocket PC 2002
  3. Windows Mobile 2003
  4. Windows Mobile 2003 SE
  5. Windows Mobile 5.0
  6. Windows Mobile 6.0
  7. Windows Phone 7
  8. Windows Phone 7.5
  9. Windows Phone 8
  10. Windows 10 Mobile, version 1511
  11. Windows 10 Mobile, version 1703
  12. Windows 10 Mobile, version 1709

D. Server Versions

सर्वर वर्ज़न वैसे प्रकार के Windows ऑपरेटिंग सिस्टम है जो खश कर सर्वर प्रोग्राम को रन करने के लिए बनाए जाते है इसमे से ज्यादातर बिना कार्य के सॉफ्टवेयर को नहीं रखे जाते है सिर्फ उन्ही प्रोग्राम्स को इंस्टॉल किए जाते ही जोकि सर्वर के लिए जरूरी होता है।

आपके जानकारी के लिए बता दु की सर्वर एक कंप्युटर प्रोग्राम होता है जो किसी खश सेवा को निरंतर देने के लिए बनाया जाता है। उदाहरण के लिए वेब सर्वर, डाटा बेस सर्वर, सेकिरिटी सर्वर, फाइल सर्वर इत्यादि। जिस ऑपरेटिंग सिस्टम पर ये सभी प्रोग्राम रन होते है उन्हे ही सर्वर वर्ज़न कहा गया है। उदाहरण के लिए नीचे सर्वर वर्ज़न ऑपरेटिंग सएतम के नाम दिए गए है। 

  1. Windows NT 3.1
  2. Windows NT 3.5
  3. Windows NT 3.51
  4. Windows NT 4.0
  5. Windows 2000
  6. Windows Server 2003
  7. Windows Server 2003 R2
  8. Windows Server 2008
  9. Windows Server 2012
  10. Windows Server 2012 R2
  11. Windows Server 2016
  12. Windows Server, version 1709
  13. Windows Server, version 1803
  14. Windows Server, version 1809
  15. Windows Server, version 1909
  16. Windows Server, version 2004

E. Windows Multi Point Server

Windows मल्टीपॉइंट सर्वर Windows सर्वर पर आधारित एक प्रकार का दूसरा ऑपरेटिंग सिस्टम है। मल्टी पॉइंट सर्वर ऑपरेटिंग सिस्टम की अंतिम रिलीज Windows मल्टीपॉइंट सर्वर 2012 थी  यह Windows सर्वर 2016 में मल्टीपॉइंट सर्विसेज की भूमिका से सफल हुआ था।  इनके नाम नीचे दिए गए है।

  1. Windows Multi Point Server 2010
  2. Windows Multi Point Server 2011
  3. Windows Multi Point Server 2012 इत्यादि।

F.  Device Versions

ये वैसे प्रकार के वर्ज़न है जोकि स्पेशल डिवाइस के लिए बनाए जाते है उदाहरण के लिए ARM आधारित टैबलेट, स्मार्ट वाच इत्यादि। इनके नाम इस प्रकार शामिल है।

1. ARM-based tablet

2012 और 2013 मे माइक्रोसॉफ्ट ने Windows के वर्ज़न रिलीज किया जो Specially ARM-आधारित टैबलेट पर रन होती थी। ये सभी वर्ज़न Windows 8 और Windows 8.1 पर आधारित थी। हालांकि इनके स्टैन्डर्ड वर्ज़न x86 आर्किटेक्चर पर बिना Modification के रन हो जाती थी। इसके उदाहरण है।

  1. Windows RT
  2. Windows RT 8.1

2. Mixed Reality & Virtual Reality Headsets

Mixed Reality & Virtual Reality डिवाइस के लिए भी Windows ने ऑपरेटिंग सिस्टम बनाए जिनके नाम इस प्रकार है।

  1. Windows 10 Holographic, version 1607
  2. Windows Holographic, version 1903
  3. Windows Holographic, version 20H2
  4. Windows Holographic, version 21H1
  5. Windows Holographic, version 21H2

3. Surface Hub

इसके उदाहरण के लिए इनके नाम नीचे दिए गए है।

  1. Windows 10 Team, version 1607
  2. Windows 10 Team, version 1703
  3. Windows 10 Team, version 20H2

तो अभी तक आपने Windows के सभी प्रकार के बारे मे जाना चलिए अब हम Windows वर्ज़न के इतिहास के बारे मे जानते है।


Window वर्ज़न का इतिहास जाने

Windows वर्ज़न का इतिहास बड़ा ही रोचक है। Windows का सबसे पहला वर्ज़न Windows 1.0 था जिसे 1985 मे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा लॉन्च किया गया था तब से लेकर अभीतक माइक्रोसॉफ्ट ने कई सारे Windows के वर्ज़न रिलीज किए जिसका अभीतक का सबसे लैटस्ट वर्ज़न Windows 11 है।

Windows वर्ज़न के इतिहास के बारे मे नीचे दिए गए है। हम Windows 1.0 से शुरू करते हुए अंत मे Windows 11 तक का सफर पूरा करेंगे।

1. Windows 1.0

Windows 1.0 माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के तरफ से बनाया गया सबसे पहला ग्राफीकल यूजर इंटरफेस आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम था। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के मालिक बिल गेट्स के द्वारा इसे 1985 मे रिलीज किया था। इस वर्ज़न मे बेसिक फंगक्शन जोड़े गए थे जैसे: कैलंडर, कैलक्यूलेटर इत्यादि।

इससे पहले 1980 के दशक में जेरॉक्स कॉरपोरेशन (Xerox Corporation) नामक कंपनी द्वारा ग्राफिकल यूजर इंटरफेस पर आधारित ज़ेरॉक्स स्टार (Xerox Star) नामक कंप्यूटर का विकास किया गया था। लेकिन यह उतना लोकप्रिय नहीं था।

2. Windows 2.0

यह माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के तरफ से दूसरी ऑपरेटिंग सिस्टम थी। जिसे 1987 मे लॉन्च किया गया था। Windows 2.0 ऑपरेटिंग सिस्टम Windows 1.0 के तुलना मे ज्यादा अच्छा नहीं था। फिर भी Windows 2.0 मे Innovative अपडेट किए गए थे ग्राफिक्स और सेकिरिटी को और एन्हैन्स किया गया था।

3. Windows 3.0

इसके बाद ऑपरेटिंग सिस्टम के लिस्ट मे हमारे पास तीसरे नंबर पर Windows 3.0 है। जिसे वर्ष 1990 में लॉन्च किया गया था। इसमे भी बहूत सारे अपडेट करके नए-नए फीचर जोड़े गए। उन्मे से एक सबसे बड़ा फीचर सॉफ्टवेयर देवेलोपेमेंट किट (SDK) को जोड़ा गया।

इससे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम बनाने वाले डेवलपर्स को बहूत फायेदाह मिला। इसके आलवा भी इस ऑपरेटिंग सिस्टम मे वर्चुअल मेमोरी, इम्प्रूव्ड ग्राफिक्स और मल्टी टासकींग के फीचर्स भी शामिल किए गए थे।

4. Windows 95

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने 1995 मे फिर एक तहलका मचाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम को लॉन्च किया। इस ऑपरेटिंग सिस्टम का नाम Windows 95 रखा गया। Windows सीरीज के इस वर्ज़न ने Windows को पूरी तरह से बदल कर रख दिया था।

इस वर्ज़न मे पहली बार स्टार्ट बटन और स्टार्ट मेनू को शामिल किया गया। इसी वर्ज़न से 32 बिट ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट किया गया क्यूंकी बाद मे जो भी ऑपरेटिंग सिस्टम थे उन सभी मे 16 बिट आर्किटेक्चर सपोर्ट शामिल थे

5. Windows 98

इस ऑपरेटिंग सिस्टम को माइक्रोसॉफ्ट ने 1998 मे लॉन्च किया था। माइक्रोसॉफ्ट ने इस वर्ज़न मे भी बहूत सारे फीचर को जोड़े थे। इसमे DVD ड्राइव और USB पोर्ट जोड़े गए थे। इसके आलवा इसमे एड्रैस बार जोड़े गए तथा सिक्युरिटी को और एन्हैन्स किया गया।

6. Windows ME

इस ऑपरेटिंग सिस्टम को वर्ष 2000 मे लॉन्च किया गया था। यहाँ Millennium Edition (ME) का आखरी OS था, जिसे MS-Dos के साथ Build किया गया था। इसने भी Windows 2000 के कुछ भाग को अपने मे शामिल किया था। इसमे इंटरनेट इक्स्प्लोरर, सर्च बार, कलर फूल आइकान इत्यादि जैसे फीचर्स मौजूद थे।

7. Windows XP

माइक्रोसॉफ्ट ने Windows XP को 2001 मे लॉन्च किया था। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को माइक्रोसॉफ्ट ने पूरी तरह से री डिजाइन कर दिया था। स्टार्ट मेनू के लिस्ट मे और अधिक काम के टूल (सॉफ्टवेयर) को जोड़े गए थे।

Windows XP अपने सुंदर डिजाइन और आसानी के लिए बेहद लोकप्रिय हुआ। अपने समय मे यह माइक्रोसॉफ्ट की सबसे ज़्यादह बिकने वाला सिस्टम सॉफ्टवेयर था।

8. Windows Vista

Windo Vista को November 30, 2006 मे Corporate के लिए रिलीज किया गया था। फिर January 30, 2007 पब्लिक्ली लॉन्च किया गया था। यह ऑपरेटिंग सिस्टम अपने बेस्ट फीचर्स के लिए सबसे जायाद लोकप्रिय हुआ।

इसमे इकॉन्स के बैकग्राउंड को बड़ा किया गया और नए-नए एक्स्ट्रा टूल जोड़े गए। इसमे सेकिरिटी सुरक्षा तथा एंटी वायरस के लिए Defender नामक प्रोग्राम को जोड़ा गया था यह इसका एक सबसे बड़ा फीचर था। यह यूजर फरेनेडली भी था इसे लगभग सभी यूजर के लिए चालना आसान था।

9. Windows 7

Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के इस वर्ज़न को Windows Server 2008 R2 के संयोजन के साथ रिलीज किया गया था। Windows 7 वर्ज़न का फर्स्ट रिलीज October 22, 2009 मे किया गया था। इसमें Music, Video और Photos को कंप्यूटर से स्टरियो (Stereo) या TV पर Streaming जैसी फीचर को यूजर्स के लिए Add किया गया।

Windows XP के बाद Windows 7 सबसे ज्यादा लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह उपयोग मे बहूत ही तेज था इसमे BIOS Loading Time यानि बूटिंग के समय को कम किया गया। Defender प्रोग्राम के फायेदा को देखते हुए इसे और ज्यादा सिक्युर बनाया गया तथा बहूत सारे छोटी-बड़ी अपडेट किए गये।

10. Windows 8

Windows 8 का फर्स्ट रिलीज October 26, 2012 को किया गया था। Windows 8 को माइक्रोसॉफ्ट के टीम ने पूरी तरह से री डिज़ाइन कर दिया था। यानि की यह एक Windows का रीडिजाइन ऑपरेटिंग सिस्टम था। यह देखने मे कुछ-कुछ Windows 10 के तरह दिखता था क्यूंकी स्टार्ट बटन पर क्लिक करने के बाद मोबाईल के Apps जैसे बड़े-बड़े आइकान इसमे नजर आते थे। जोकि यूजर को उतना पसंद नहीं आया था।

हालांकि इसका यह डिजाइन टचस्क्रीन वाले लैपटॉप के साथ उपयोग को शामिल करते हुए किया गया था। इस वर्ज़न मे नए-नए InBuild Default Program जैसे: News, Weather, People, Being, Microsoft App Store इत्यादि को Add किया गया था। इसमें USB 3.0 Devices का Support भी दिया गया था। Windows 7 के तुलना मे Windows 8 की लोडिंग स्पीड फास्ट थी। यह मिनटों के बजाय सेकंड में लोड होने में सक्षम था।

11. Windows 10

इस ऑपरेटिंग सिस्टम को July 29, 2015 मे रिलीज किया गया है। Windows 10, Windows 8 का अगला वर्ज़न है। Windows सीरीज की यह वर्ज़न भी बहूत लोकप्रिय हुआ, क्यूंकी इसमे स्टार्ट मेनू के आइकान को छोटा कर यूजर फ़्रेंडली रखा गया। नोटफकैशन बार मे कॉमन प्रयोग मे आने वाले टूल्स को शामिल किया गया इत्यादि एस तरह के कई सारे अपडेटस किए गए।

Windows 10 में तेजी से स्टार्ट-अप यानि की सिस्टम लोड होने के फीचर शामिल है। Windows के इस संस्करण में माइक्रोसॉफ्ट एज (माइक्रोसॉफ्ट का नया ब्राउज़र) भी शामिल है। कोई भी योग्य डिवाइस (जैसे टैबलेट, पीसी, स्मार्टफोन और एक्सबॉक्स कंसोल) Windows 10 के साथ कम्यूनकैट करने में सक्षम था इसके Defender Anti Virus प्रोग्राम को सुधार कर अपडेट किया गया।

12. Windows 11 (Latest)

माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के तरफ से अब तक का यह सबसे लैटस्ट वर्ज़न है। माइक्रोसॉफ्ट ने October 5, 2021 को इसका फर्स्ट वर्ज़न रिलीज किया था। हालाँकि Microsoft ने दावा किया था कि Windows 10 अब तक का Windows का अंतिम संस्करण होगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ इसने Windows सीरीज की अगली वर्ज़न Windows 11 को लॉन्च कर दिया।

Windows 11 एक नए विज़ुअल डिज़ाइन, अपडेटेड ऐप्स, टचस्क्रीन ऑप्टिमाइज़ेशन और मल्टीटास्किंग सुविधाओं के साथ आया है। Windows 11 मे सभी कॉर्नर को राउन्ड रखे गये जैसे Windows, आइकान इत्यादि।  माइक्रोसॉफ्ट का यह भी दावा है कि Windows 11 अब तक की सबसे सुरक्षित रिलीज है। जो यूजर पहले से अरिजनल Windows का इस्तेमाल कर रहे है वे Windowsज 11 को मुफ्त में अपग्रेड कर सकते है। लेकिन एक शर्त है की आपका कंप्युटर या पीसी इन्स्टलैशन की जरूरतों को पूरा चाहिए।


Windows क्या कार्य करता है?

जैसे की आप जानते है की Windows एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जिसे ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है। तो जैसे दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम का कार्य किसी सिस्टम को ठीक तरह से ऑपरैट करना होता है उसी तरह Windows ऑपरेटिंग सिस्टम का कार्य भी Computer या लैपटॉप मे मौजूद कोंपनेन्टस को ठीक तरह से ऑपरैट करना होता है।

Windows ऑपरेटिंग सिस्टम का कार्य दूसरे प्रकार के सॉफ्टवेयर जैसे: यूटिलिटी सॉफ्टवेयर, ऐप्लकैशन सॉफ्टवेयर (क्रोम ब्राउजर) इत्यादि को रन करना होता है। इसके अलावा Windows किसी भी प्रकार के सॉफ्टवेयर बनाने के लिए SDK प्रदान करता है। Windows पेरिफेरल डिवाइस (परिधीय उपकरणों) को भी कंट्रोल करने का कार्य करता है। बिना Windows के Computer को चलाना मुमकिन नहीं है जब तक की आप उस Computer मे दूसरा कोई ऑपरेटिंग सिस्टम को इंस्टॉल न कर ले। चलिए अब हम Windows के इडिशन के बारे मे जानते है।


Windows XP के कितने Edition है?

Windows XP के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows XP Starter
  2. Windows XP Home
  3. Windows XP Professional
  4. Windows XP 64-bit Edition
  5. Windows XP Media Center Edition
  6. Windows XP Media Center Edition 2004
  7. Windows XP Media Center Edition 2005
  8. Windows XP Media Center Edition 2005 Update Rollup 2
  9. Windows XP Professional x64 Edition

Windows Vista के कितने Edition है?

Windows Vista के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows Vista Starter
  2. Windows Vista Home Basic
  3. Windows Vista Home Premium
  4. Windows Vista Business
  5. Windows Vista Enterprise
  6. Windows Vista Ultimate

Windows 7  के कितने Edition है?

Windows 7 के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows 7 Starter
  2. Windows 7 Home Basic
  3. Windows 7 Home Premium
  4. Windows 7 Professional
  5. Windows 7 Enterprise
  6. Windows 7 Ultimate

Windows 8  के कितने Edition है?

Windows 8 के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows 8
  2. Windows 8 Pro
  3. Windows 8 Enterprise

Windows 10 के कितने Edition है?

Windows 10 के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows 10 Home
  2. Windows 10 Pro
  3. Windows 10 Education
  4. Windows 10 Enterprise
  5. Windows 10 Pro for Workstations
  6. Windows 10 Pro Education
  7. Windows 10 S
  8. Windows 10 Enterprise LTSC

Windows 11 के कितने Edition है? (सभी नाम)

Windows 11 के निम्नलिखित इडिशन है-

  1. Windows 11 Home
  2. Windows 11 Pro
  3. Windows 11 Pro for Workstations
  4. Windows 11 Pro Education
  5. Windows 11 Education
  6. Windows 11 Enterprise
  7. Windows 11 SE

Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के लाभ

Windows Operating सिस्टम के अनेकों लाभ है सभी के बारे मे बताना को मुमकिन नहीं है उन्मे से कुछ कॉमन लाभ के बारे मे नीचे दिए गए है।

  1. यह एक ग्राफिकल यूजर इंटरफेस आधारित सिस्टम सॉफ्टवेयर है। जिससे एक नौसिखिये यूजर के लिए इसे चलाना आसान बनाता है क्यूंकी इसमे एक बेसिक कार्य के लिए कोई Command याद करने के जरूरत नहीं पड़ते है।
  2. इसमे जगह-जगह पर प्रोग्राम को खोलने और बंद करने के लिए आइकान दिए गए है जिससे यूजर माउस से उसे क्लिक करके अपने जरूरत के अनुसार काम कर सकता है।
  3. इसमे ड्रैग और ड्रॉप के फीचर दिए गये है।
  4. यदि किसी प्रकार का सॉफ्टवेयर (जैसे- गेम, फोटो एडिटिंग, विडिओ एडिटिंग) इत्यादि इंस्टॉल करना है तो उसके लिए आप Microsoft Store पर जाकर उसे डायरेक्ट अपने कंप्युटर मे इंस्टॉल कर सकते है। इसके लिए आपको किसी थर्ड पार्टी वेबसाईट पर जाकर उस सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने के जरूरत नहीं पड़ते है।
  5. इसमे पावर मैनिज्मन्ट, यूजर अकाउंट मैनिज्मन्ट सिक्युरिटी सुरक्षा इत्यादि जैसे प्रोग्राम्स शामिल है जोकि इसे और बेहतर बनाता है।
  6. इसमे समय-समय पर अपडेट आते रहते है, जिससे की आप बिना देरी किए नए फीचर्स का आनद ले सकते है। और इसके सभी अपडेट फ्री होते है बस शर्त यह है की आपका Windows ऐक्टवैट होना चाहिए।

तो ये रहे Windows के लाभ या फीचर्स के बारे मे जिसे जानना आपके लिए बेहद जरूरी है। चलिए अब हम Windows से संबंधित कुछ सवालों के जवाब जानते है।


Windows से संबंधित आपके सवालों के जवाब

1. पाँच प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम बताये।

1. Windows 11
2. Windows 10 S (2017)
3. Windows 10 (2015)
4. Windows 8/8.1 (2012-2013) – MS Version 6.2/6.3
5. Windows 7 (2009) – MS Version 6.1

2. Windows कितने प्रकार के होते है?

Windows चार प्रकार के होते है-
1)    Single User OS
2)    Multiple User OS
3)    Multitasking OS और
4)    Multithreading OS

3. Windows का सबसे पहला वर्ज़न कौन सा था।

Windows का सबसे पहला वर्ज़न Windows 1.0 था।

4. Windows का सबसे लैटस्ट वर्ज़न कौन सा है?

Windows का सबसे लैटस्ट वर्ज़न Windows 11 है?

5. Windows 1.0 को कब और किसके द्वारा रिलीज किया गया था।

Windows 1.0 को 1985 मे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा रिलीज किया गया था।

6. Widows Operating सिस्टम अधिक लोकप्रिय क्यों है?

क्यूंकी यह एक नॉर्मल कंप्युटर यूजर के इस्तेमाल के लिए बहूत आसान है। 

7. Windows के मूल तत्वों कौन है?

विंडोज़ के मूल तत्व मे Standard Toolbar, Tool Icon, Scroll Bar, Menu Bar इत्यादि शामिल है।


निष्कर्ष:

इस आर्टिकल मे आपने Windows क्या है? Windows कितने प्रकार का होता है? इसका क्या काम है? इन सभी टॉपिक के बारे मे जानकारी हासिल किया।

जैसे की आपने सबसे पहले Windows क्या है: Windows एक प्रकार का सिस्टम सॉफ्टवेयर है जोकि पूरे सिस्टम को ऑपरैट करता है इसके बारे मे जाना फिर आपने Windows के  प्रकार को आर्किटेक्चर  के आधार पर, Functionality के आधार पर  और Version के आधार पर जाना।

साथ ही हमने Windows वर्ज़न के इतिहास को जाना माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने 1985 मे Windows का सबसे पहला वर्ज़न Windows 1.0 को रिलीज किया। हमने Windows 1.0 से शुरू करते हुए अंत मे Windows 11 तक का सफर पूरा किया। फिर हमने Windowsज क्या कार्य करता है? इसके बारे मे भी जाना। फिर हमने

Windows के अलग-अलग वर्ज़न के इडिशन के बारे मे जाना जैसे Windows 11 के 7 इडिशन है: Windows 11 Home, Windows 11 Pro, Windows 11 Education इत्यादि। तथा अंत मे हमने Windows ऑपरेटिंग सिस्टम के लाभ के बारे मे जाना।

उम्मीद करता हूँ की यह आर्टिकल आपको बेहद ही इन्फॉर्मटिव लागि होगी। किसी भी प्रकार के सुझाव या हेल्प के लिए नीचे कमेन्ट करे हम आपका रिप्लाइ जरूर देंगे।  

आपके काम के अन्य पोस्ट:

मुझे टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ना और लिखना बहुत अच्छा लगता है। इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में लोगों के साथ जानकारी शेयर करके मुझे खुशी महसूस होती है। इसके अलावा फोटोग्राफी करना मेरी हॉबी है। मैंने एक इंजीनियर के रूप में शिक्षा ली है और पेशे से अब मैं एक पार्ट-टाइम Professional Blogger हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here