ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है, क्या काम करता है इसके प्रकार व सम्पूर्ण जानकारी

मोबाइल और कंप्यूटर Application Program को तभी Run कर पाते है, जब Computer और Mobile में कोई Operating System मजुद हो, क्योंकि एक ऑपरेटिंग सिस्टम ही डिवाइस में इंटरफ़ेस प्रदान करता है, जिसके जरिए यूजर्स Application Program के साथ बहुत ही अच्छे तरीके से interact कर पाते हैं। क्या आप Operating System Kya Hai के बारे में जानते हैं, यदि नहीं तब यह ब्लॉग पोस्ट आप सभी के लिए बहुत ही फायदेमंद होने वाला है। 

Operating System Kya Hai

जैसे जीवन के बगैर मनुष्य के शरीर का कोई भी अस्तित्व नहीं है, ठीक उसी तरह ऑपरेटिंग सिस्टम के बगैर कंप्यूटर और मोबाइल का कोई भी अस्तित्व नहीं है, क्योंकि हम बिना सिस्टम सॉफ्टवेयर यानी ऑपरेटिंग सिस्टम के डिवाइस के अंदर कोई भी काम नहीं कर सकते है, सभी एप्लीकेशन प्रोग्राम को इस्तेमाल करने के लिए हमें सिस्टम सॉफ्टवेयर का जरूरत पड़ता ही है। तो चलिए Operating System Kya Hai और यह क्या काम करता है के बारे में जानते हैं। 

Operating System क्या है

Operating System को छोटे शब्द में OS भी कहां जाता है, यह OS यानी की Operating System एक System Software है, जो की कंप्यूटर और मोबाइल के हर्डवरें को यूजर्स के साथ इंटरेक्ट करने के लिए एक Interface प्रदान करता है, जिसके जरिए System को हम आसानी से इस्तेमाल कर पाते है।

ऑपरेटिंग सिस्टम या सिस्टम सॉफ्टवेयर जैसे की Windows, Mac OS, Android, iOS आदि के तहत ही हम किसी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर या फिर मोबाइल में इस्तेमाल कर पाते हैं, यदि किसी डिवाइस में ऑपरेटिंग सिस्टम ना हो तो उस डिवाइस का कोई भी कार्य नहीं है। 

एक ऑपरेटिंग सिस्टम ही हार्डवेयर के साथ यूजर्स का इंटरेक्शन एक इंटरफेस के माध्यम से तैयार करता है, इस कारण यदि किसी डिवाइस में ऑपरेटिंग सिस्टम ना हो तो उसके बिना कोई भी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करना बिल्कुल असंभव है, ऑपरेटिंग सिस्टम के तहत ही हम Ms-Word, Notepad, Excel जैसे आदि एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर पाते है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या काम करता है (जरूरत)

Operating System क्या है यह तो आप अच्छे से जान ही गए होंगे परंतु क्या आप ऑपरेटिंग सिस्टम क्या काम करता है के बारे में जानते हैं, यदि नहीं तो आपको जानकारी के लिए बता दें कि ऑपरेटिंग सिस्टम के बगैर कोई भी काम नहीं हो सकता है, और OS के कई सारे कार्य है यदि हम ऑपरेटिंग सिस्टम क्या काम करता है के बारे में बताएं तो वह है –

  • यूजर इंटरफेस – यह तो हम जानते ही है, की कंप्यूटर में हम जो कुछ भी Input करते है, वह कंप्यूटर बाइनरी सख्या 0 और 1 के संख्या में ही समझता है, यूजर्स तो 0 और 1 बाइनरी संख्या में इनपुट नहीं दे सकते, इस कारण ऑपरेटिंग सिस्टम हमें एक इंटरफ़ेस प्रदान करता है जिसके तहत हम आसानी से कंप्यूटर पर कोई भी कार्य कर पाते हैं। 
  • प्रक्रिया प्रबंधन – जानकारी के लिए बता दे की, CPU एक समय में केवल एक ही काम को प्रोसेस कर सकता है, पर एक कंप्यूटर या फिर मोबाइल अनेक काम को सिस्टम में एक साथ कर पाता है, वह केवल OS यानी ऑपरेटिंग सिस्टम के तहत ही संभव हो पाता है, क्योंकि ऑपरेटिंग सिस्टम प्रोसेसर को मल्टी-प्रोग्रामिंग करने में सहायता करता है।   

ऑपरेटिंग सिस्टम Processor को मल्टीप्रोग्रामिंग करने में जो सहायता प्रदान करता है, उसे Process Scheduling कहां जाता है। जब किसी एप्लीकेशन Program को इस्तेमाल किया जाता है, तब ऑपरेटिंग सिस्टम उस प्रोग्राम को Allocate करता है और जब उस प्रोग्राम का कार्य समाप्त हो जाता है, तब OS उस प्रोग्राम को Deallocate कर देता है। 

  • स्मृति प्रबंधन– मेमोरी की बात करें तो यह दो प्रकार के होते हैं, एक प्राइमरी मेमोरी दूसरा सेकेंडरी मेमोरी। यह दो प्राइमरी और सेकेंडरी मेमोरी ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा संचालित होता है, यानी कौन सा मेमोरी किस काम के लिए इस्तेमाल किया जाएगा यह OS निर्धारित करता है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम मल्टिप्रोसेसिंग में यह निर्धारित करता है, कि मेमोरी को कितना काम दिया जाएगा। कौन सा मेमोरी कितना काम कर रहा है, कितना नहीं यह भी ऑपरेटिंग सिस्टम नज़र रखता है। जब प्रोसेसिंग का कोई प्रयोग नहीं होता, तो ऑपरेटिंग सिस्टम वापस से उस मेमोरी को De-allocate करता है। 

  • Error Detect – यदि सिस्टम में कोई प्राब्लम है, या फिर सिस्टम में किसी तरह का खराबी है तो वह ऑपरेटिंग सिस्टम डिटेक्ट करता है। और हमें उस Error के बारे में संकेत देता है कि क्या Error है, सिस्टम में। 
  •  Security – इस Security के कार्य को भी हम ऑपरेटिंग सिस्टम का मुख्य कार्य भी कह सकते हैं, क्योंकि सुरक्षा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। OS सिस्टम के सभी डाटा और फाइल को पासवर्ड या फिर किसी और अन्य तकनीकी प्रोसेस के द्वारा unauthorized access से रक्षा करता है। 
  • फ़ाइल प्रबंधन – एक सिस्टम के अन्दर बहुत से फाइल मौजूद होते हैं, और सभी फाइल के अंदर बहुत से डायरेक्टरी को जमा करके रखा जाता है और उन फाइल को मैनेज करने का कार्य ऑपरेटिंग सिस्टम ही करता है।  

Operating System के प्रकार

Os एक System को इंटरफ़ेस देने के साथ-साथ सभी फाइल्स और मेमोरी को मैनेज भी करता है यह तो आप जान ही गए होंगे, जानकारी के लिए बता दे कि Operating System कई प्रकार के होते हैं, परंतु यदि हम उपयोगकर्ता के आधार पर ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ मुख्य प्रकार के बारे में बताएं तो वह है – 

  1. Single-user OS – इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम मैं एक समय पर मात्र एक ही यूजेस कंप्यूटर पर कार्य कर सकता है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम के कारण सिस्टम को एक से अधिक लोग इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।
  1. Multi User OS- मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम एक प्रकार का ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसके तहत एक सिस्टम को एक से अधिक यूजर्स बहुत ही आसानी से इस्तेमाल कर सकते है। सरल भाषा में कहें तो मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम एक से अधिक यूजर्स को एक कंप्यूटर पर कार्य करने मैं सहायता करता है।  
  1. Multitasking OS – इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर को सिस्टम पर एक से अधिक कार्य करने में उपयोग करता है। मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम के तहत कोई भी यूजर कंप्यूटर पर कुछ लिखने के साथ-साथ वीडियो या फिर कोई और अन्य कार्य भी बहुत आसानी से कर सकता है।  
  1. Multi Processing OS – इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम के जरिए हम किसी एक प्रोग्राम को एक से ज्यादा CPU पर चला सकते है।
  1. Multi Threading OS– यह Multi Threading ऑपरेटिंग सिस्टम एक प्रोग्राम के विभिन्न भागों को एक साथ चलाने में सहायता करता है।  
  1. Real Time OS – Real Time ऑपरेटिंग सिस्टम में यूजर के द्वारा दिया गया इनपुट का तुरंत प्रतिक्रिया यह ऑपरेटिंग सिस्टम देता है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएँ

ऑपरेटिंग सिस्टम का महत्व सिस्टम में बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के बगैर कोई भी कार्य नहीं कर सकता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के कई सारे विशेषताएं हैं, जिसके बारे में हमने नीचे बताया है –  

  • OS या सिस्टम सॉफ्टवेयर System को एक इंटरफेस प्रदान करता है, जिसकी सहायता से हम सिस्टम पर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल कर पाते हैं। 
  • Input व Output Device को नियंत्रण करने का कार्य भी ऑपरेटिंग सिस्टम ही करता है। 
  • यदि सिस्टम में किसी भी तरह का Error दिखता है तो ऑपरेटिंग सिस्टम उस Error के बारे में System को सूचित करता है।
  • एक ऑपरेटिंग सिस्टम Process को allocate और deallocate करने का कार्य भी करता है, इस कार्य को Process Scheduling कहां जाता है। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम System के सभी डाटा को पासवर्ड या किसी और अन्य तकनीकी व्यवस्था के द्वारा सुरक्षा प्रदान करता है।

प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम

Operating System Kya Hai और ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार के बारे में तो आपको जानकारी मिल ही गया होगा, अब हम यदि कुछ प्रमुख Operating System के नाम के बारे में बात करें तो वह Windows और Mac OS है, जो की सबसे ज्यादा कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता है और वहीं यदि हम मोबाइल के कुछ प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में बताएं, तो वह Android और iOS है। आप इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से जान सकते है की एंड्रॉयड और आईओस मे क्या फर्क है।


ऑपरेटिंग सिस्टम से संबंधित कुछ सवाल जवाब

Windows Operating System क्या है? 

Windows माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा निर्माण किया गया एक ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो कंप्यूटर में प्रयोग किया जाता है, और इस विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को ही ज्यादातर लोग अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में उपयोग करते हैं। कंप्यूटर में Windows ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करने के साथ-साथ Mac OS, Linux, आदि जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल भी होता है। 

Mobile Operating System क्या है? 

मोबाइल में जो System Software इस्तेमाल किया जाता है, मोबाइल एप्लीकेशन व अन्य कार्य को करने के लिए उसे ही मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम कहां जाता है उदाहरण के तौर पर Android और iOS प्रमुख मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है। 

सारांश – 

आज के इस ब्लॉग पोस्ट पर हमने Operating System Kya Hai, इसके बारे में विस्तार में बताया है, उम्मीद करते हैं कि इस ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता चल गया होगा, कि ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है और ऑपरेटिंग सिस्टम क्या कार्य करता है। 

बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के सिस्टम का कोई भी उपयोग नहीं है, क्योंकि बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के हम कोई भी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को सिस्टम में इस्तेमाल ही नहीं कर सकते है। यदि आपके मन में ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है से संबंधित कोई भी प्रश्न है, तब आप हमें नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

लॉजिकलदोस्त टीम, LogicalDost प्लेटफॉर्म पर कुछ लोगों का समूह है ये समूह अलग अलग विषयों पर अच्छे ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से लोगों को इंटरनेट व टेक्नोलॉजी के बारे मे जानकारी देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here