KYC क्या है; KYC की Full Form क्या होती है

जब कोई व्यक्ति बैंक में खाता खुलवाने जाता है, तब बैंक उस व्यक्ति को KYC करवाने के लिए कहता है, शायद आपने भी बैंक खाता खुलवाते वक्त KYC करवाया होगा, परंतु क्या आप KYC क्या है? और KYC Ka Full Form क्या होता है? के बारे में जानते हैं, यदि नहीं तो आज का यह आर्टिकल, आप सभी के लिए बहुत ही उपयोगी होने वाला है। 

KYC kya hai

केवल बैंक में खाता खुलवाने के वक्त ही KYC की जरूरत नहीं पड़ता, बल्कि कोई भी फाइनेंशियल काम को पूरा करने के लिए भी, आज के समय में KYC का जरूरत पड़ता है, जैसे कि बैंक में म्युचुअल फंड, शेयर मार्केट में निवेश करने वक्त और यहां तक की ऑनलाइन पेमेंट करने वाले ऐप या फिर वेबसाइट पर भी Kyc का जरूरत पड़ता है। KYC प्रोसेस किसी भी फाइनेंशियल क्षेत्र में मुख्य भूमिका निभाता है। तो चलिए KYC Kya Hai के बारे में जानते हैं। 

KYC क्या है?

KYC यानी नो योर कस्टमर एक पहचान पत्र को वेरीफाई करने का प्रोसेस है, यदि हम KYC क्या है को विस्तार में परिभाषित करें, तो यह एक ऐसा दस्तावेज या प्रोसेस होता है, जिसके द्वारा बैंक या फिर कोई फाइनेंशियल सेक्टर अपने ग्राहकों के पहचान और पते को सुनिश्चित करता है। KYC का प्रोसेस बैंक में खाता खुलवाने से लेकर बैंक के किसी भी कार्य को पूरा करने के लिए बैंक या फिर वित्तीय विभाग द्वारा करवाया जाता है।

KYC एक सत्यापन प्रक्रिया है, जिसके द्वारा Bank को  ग्राहकों के बारे में सभी जरूरी जानकारी प्राप्त हो जाता है, Bank या फिर फाइनेंशियल विभाग, KYC प्रोसेस के द्वारा यह पता लगाता है, कि ग्राहकों का पहचान पत्र असली है या फर्जी क्योंकि ऐसे भी कई लोग मौजूद हैं, जो बैंक के कार्य को पूरा करने के लिए फर्जी डॉक्यूमेंट का प्रयोग करते हैं और उनको पकड़ने के लिए ही, KYC Process ग्राहकों के द्वारा करवाया जाता है। 


Kyc Ka Full Form क्या होता है? 

KYC क्या है यह तो आप अच्छे से जान ही गए होंगे, परंतु क्या आप KYC Ka Full Form क्या होता है के बारे में जानते हैं, यदि नहीं तो आपको बता दें कि KYC Ka Full Form Know Your Customer होता है जिसका हिंदी में पूरा नाम अपने ग्राहक को जानो होता है। Kyc का प्रोसेस Offline Mode के साथ Online Mode में भी होता है, जिसे हम e KYC के नाम से जानते है, और इसका पूरा नाम Electronic Know Your Customer होता है। 

KYC करवाने के लिए जरूरी डॉक्यूमेंट

KYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए बैंक या फिर कोई फाइनेंशियल दफ्तर, अपने ग्राहकों से Identity Verification प्रोसेस को पूरा करने के लिए कुछ जरूरी दस्तावेज लेता है, जो बैंक को यह सूचित करने में मदद करता है, कि ग्राहक के द्वारा दिया गया सभी जानकारी असली है या फर्जी। KYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए, जो मुख्य दस्तावेजों का जरूरत पड़ता है वह है- 

  • Driving License (ड्राइविंग लाइसेंस)
  • Passport (पासपोर्ट)
  • Pen Card (पैन कार्ड)
  • Voter ID (वोटर कार्ड) 
  • Aadhaar Card (आधार कार्ड) 
  • NREGA job card (नरेगा जॉब कार्ड)

KYC को पूरा करने के क्या- क्या फायदे हैं?

KYC प्रक्रिया को पूरा करने के बहुत से फायदे हैं, यदि हम उन Kyc प्रोसेस को पूरा करवाने के जरूरी फायदे के बारे में आप सभी लोगों को विस्तार में बताएं तो वह है- 

1) आपका ट्रांजैक्शन लिमिट KYC प्रक्रिया को करवाने, के बाद बढ़ जाता है। 

2) केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आप कहीं पर भी ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। 

3) यह प्रोसेस ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचाता है। 


सारांश

उम्मीद है कि आप सभी आज के इस ब्लॉग पोस्ट से Kyc क्या है? और Kyc Ka Full Form क्या होता है? के बारे में विस्तार में जान गए होंगे। KYC एक ऑनलाइन पहचान पत्र को सूचित करने का प्रोसेस होता है जो बैंक और फाइनेंशियल दफ्तर द्वारा करवाया जाता है। 

यदि आपके मन में KYC क्या है? को लेकर कोई प्रश्न है तब आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स पर बेझिझक कमेंट करके बता सकते हैं। यदि आपको आज का यह KYC क्या है और Kyc का फुल फॉर्म क्या होता है पर ब्लॉग पोस्ट उपयोगी लगा है, तब आप LogicalDost ब्लॉग का और पोस्ट पढ़ सकते हैं। 

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

लॉजिकलदोस्त टीम, LogicalDost प्लेटफॉर्म पर कुछ लोगों का समूह है ये समूह अलग अलग विषयों पर अच्छे ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से लोगों को इंटरनेट व टेक्नोलॉजी के बारे मे जानकारी देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here