Computer Format Kaise Kare; कंप्यूटर या लैपटॉप को फॉर्मेट कैसे करें

जब हम नया कंप्युटर खरीदते है तो हमारा कंप्युटर बहूत अच्छा यानि की फास्ट चलता है। लेकिन धीरे-धीरे उसमे कुछ-न-कुछ प्रॉब्लमस आने शुरू हो जाते है। ये प्रॉब्लमस सेटिंग्स को बदलने से या किसी थर्ड पार्टी सॉफ्टवेयर को अपने कंप्युटर मे इंस्टॉल करने से भी आते है।

तो इस प्रॉब्लेम को दूर करने के लिए, कई बार हमे कंप्युटर को फॉर्मैट करने की जरूरत पड़ती है। क्यूंकी हमारा कंप्युटर वायरस या अन्य दूसरे कारणों से स्लो हो जाता है। कई बार तो वायरस को रिमूव करने से भी कंप्युटर बहूत स्लो चलने लगता है। तो ऐसे मे हमारे पास एक ही ऑप्शन होता है, वह है कंप्युटर को फॉर्मैट करके दुबारा से उसमे एक नई विंडो को इंस्टॉल करना।

इस ब्लॉग पोस्ट मे हम कंप्युटर फॉर्मैट कैसे करें, इसी के बारे मे जानेंगे। कंप्युटर फॉर्मैट करने के एक से अधिक तरीके है। आप नॉर्मल सेटिंग्स से भी कर सकते है आप कमांड (Command Prompt) के इस्तेमाल से भी कर सकते है या फिर आप यूएसबी फ्लैश ड्राइव के दुवारा बूट ऑप्शन का इस्तेमाल से भी कर सकते है। तो चलिए कंप्युटर फॉर्मैट करने के लिए 3 आसान तरीकों के बारे मे जानते है।

कंप्युटर फॉर्मैट कैसे करें

नीचे आपको कंप्युटर फॉर्मैट कैसे करते है, इसके लिए तीन तरीके बताए गए है। आपको, सभी तरीकों को स्टेप्स के साथ समझाया गया है, आप नीचे दिए गए किसी भी तरीके का इस्तेमाल से कंप्युटर फॉर्मैट कर सकते है। लेकिन उसके पहले आपको कुछ जरूरी बाते पता होना चाहिए अन्यथा आपके सभी डाटा डिलीट हो सकते है, या फिर गलत जानकारी से आपका कंप्युटर खराब भी हो सकता है।


कंप्युटर फॉर्मैट करने के लिए जरूरी बातें

  1. सबसे पहले आप अपने कंप्युटर के सभी इम्पॉर्टन्ट फाइल और फ़ोल्डर को एक सुरक्षित स्थान पर Transfer (ट्रैन्स्फर) कर ले। ध्यान दे विंडो जोकी एक प्रकार का ऑपरेटिंग सिस्टम है, C:// ड्राइव मे इंस्टॉल रहता है ओर उसी ड्राइव मे सभी सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स इंस्टॉल रहते है। तो यदि आपके कंप्युटर मे एक से अधिक ड्राइव है, तो आप अपने सभी फाइल C:// ड्राइव से दूसरे ड्राइव मे ट्रैन्स्फर कर सकते है या फिर आप दूसरे जगह भी बैकअप ले सकते है। 
  2. आप अपना कंप्युटर या लैपटॉप 100% चार्ज रखे, जरूरत पड़ने पर उसे पावर सप्लाइ से प्लग-इन भी करके रखे, अन्यथा फॉर्मैट के समय पर यदि कंप्युटर ऑफ हो गया, तो बाद मे परेशानी आ सकती है।
  3. आप सुनिश्चित कर ले की क्या आप सिर्फ C:// ड्राइव को फॉर्मैट करना चाहते है और साथ ही मे न्यू विंडो को इंस्टॉल भी करना चाहते है। यदि ऐसा है तो आपके पास मे एक बूटऐबल पेन ड्राइव होना जरूरी है, जिसे तीसरा तरीका मे बताया गया है। और यदि आप दूसरे ड्राइव को फॉर्मैट करना चाहते है, तो आपके पास एक फ्लैश ड्राइव या बूट ऐबल पेन ड्राइव होना आवश्यक नहीं है।

तो ये रहे कुछ जरूरी बातें जिसे आपको जानना बेहद जरूरी है। तो चलिए अब हम कंप्युटर फॉर्मैट कैसे करते है इसके तरीकों के बारे मे जानते है।


पहला तरीका: Disk Management टूल की मदद से

Disk Management एक विंडो के तरफ से दिया गया यूटिलिटी टूल है। जिसका इस्तेमाल से आप हार्ड डिस्क मे बनाए गए पार्टिशन को फॉर्मैट या डिलीट कर सकते है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप नीचे दिए स्टेप्स को फॉलो करें।

स्टेप 1) सबसे पहले विंडो के सर्च बार मे Disk Management टाइप करें, और फिर इसे ओपन करे।

स्टेप 2) ओपन होने के बाद आपके सामने इस तरह का इंटरफेस आता है। आपके सामने सभी पार्टिशन या ड्राइव जैसे की E: Drive, C: Drive, या D: Drive etc  के नाम आ जाते है। तो आप इनमे से जिस भी ड्राइव को फॉर्मैट करना चाहते है, उसे सिलेक्ट करें।

disk management tool use in hindi

स्टेप 3) उसके बाद आप राइट क्लिक करे और फिर Format पर क्लिक करे, आप नीचे फोटो मे देख सकते है।

quick format kaise kare

स्टेप 4) उसके बाद आपके सामने एक छोटा सा डाइअलॉग-बॉक्स ओपन होता है, जिसमे आपके सामने कुछ Options दिखाई देते है। जैसे की आप नए ड्राइव का नाम बदल सकते है, आप फॉर्मैट ऑप्शन को सिलेक्ट कर सकते इत्यादि। सुविधा के लिए आप सब कुछ बाइ डिफ़ॉल्ट ही रहने दे और फिर Ok पर क्लिक कर दे। तो आपका सिलेक्ट किया हुआ ड्राइव क्विकली यानि जल्दी फॉर्मैट हो जाता है।


दूसरा तरीका: File Explorer की मदद से

कंप्युटर फॉर्मैट करने के लिए यह एक सबसे आसान तरीका है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

स्टेप 1) सबसे पहले आप फाइल इक्स्प्लोरर को ओपन करे, इसके लिए आप शॉर्टकट बटन Ctrl+E को प्रेस कर सकते है या फिर आप सर्च बार मे File Explorer को टाइप करके भी ओपन कर सकते है।

स्टेप 2) उसके बाद This PC मे जाए।

this pc me kaise jaaye

स्टेप 3) अब आपके सामने सभी ड्राइव के नाम दिख रहे होंगे। तो आप उन्मे से किसी एक ड्राइव को सिलेक्ट करे।

स्टेप 4) उसके बाद राइट क्लिक करे और फिर फॉर्मैट पर क्लिक करे। आप ऊपर फोटो मे देख सकते है।

यदि आप क्विक फॉर्मैट करते है, तो यह लगभग 5-10 मिनट समय लेता है और आपका ड्राइव सफ़ेली फॉर्मैट हो जाता है। तो यदि आपने फॉर्मैट के समय C: ड्राइव को सिलेक्ट किया था तो आपका विंडो भी डिलीट हो गया होगा लेकिन चलिए कोई बात नहीं आप नई विंडो को दुबारा से क्लीन इंस्टॉल कर सकते है। तो चलिए इसके लिए तीसरा तरीका को ध्यानपूर्वक समझते है।


तीसरा तरीका: Bootable Pen Drive की मदद से

यह तरीका थोड़ा सा कॉम्प्लेक्स है, ओर इसको फॉलो करने मे लगभग सभी नॉर्मल यूजर को थोड़ा सा परेशानी होती है। लेकिन इसका सबसे बड़ा फायदा यह की आपके दोनों कार्य एक साथ ही कम्प्लीट हो जाते है। यानि की आप अपने कंप्युटर को फॉर्मैट भी कर लेते है और फिर उसमे नई विंडो भी इंस्टॉल कर लेते है। तो चलिए इसके बारे मे शॉर्ट मे जानते है।

स्टेप 1) सबसे पहले आप अपने पेन ड्राइव को Bootable बनाये । इसके लिए आप Rufus टूल का इस्तेमाल कर सकते है।

स्टेप 2) अब आप अपने कंप्युटर को रिस्टार्ट करे, ओर ऑन होते ही, कीबोर्ड से F2 या F12 बटन को प्रेस करे। आपके सामने बूट मैनेजर खुल जाता है।

स्टेप 3) अब आप एरो Key का प्रयोग करते हुए, बूट प्राइऑरटी मे जाए ओर वहाँ पर Bootable Pen Drive को सबसे ऊपर रखे। इसके लिए आप ऑन स्क्रीन इन्स्ट्रक्शन को फॉलो कर सकते है। यह स्टेप कम्प्लीट हो जाने के बाद सेव और एक्सिक्स्ट (Save & Exit) कर दे या सिम्प्ली इंटर दबाए।

स्टेप 4) अब आपका कंप्युटर पुनः ऑन होता है, ओर आपके सामने नई विंडो सेटअप करने का ऑप्शन दिखाई देता है। तो आप Install Now पर क्लिक करे।

स्टेप 5) फिर भाषा को सिलेक्ट करे फिर Next पर क्लिक करे फिर लाइसेंस एग्रीमेंट को सिलेक्ट करे और फिर Next पर क्लिक करे।

स्टेप 6)  अब आप Installation Type मे Custom को सिलेक्ट करे, फिर Next पर क्लिक करे। आप दिए गए विंडो इडिशन के लिस्ट मे से किसी एक को सिलेक्ट कर सकते है, फिर नेक्स्ट पर क्लिक करे।

स्टेप 7) अब आपके सामने Installation Drive/ Partition के नाम दिख रहे होंगे। तो आप उन्मे से जिस भी पार्टिशन को फॉर्मैट करना चाहते है, उसे सिलेक्ट करे। फिर फॉर्मैट पर क्लिक करे, तो इस प्रकार से सिलेक्ट किया हुआ ड्राइव या पार्टिशन फॉर्मैट हो जाता है।

फॉर्मैट होने के बाद आपके लैपटॉप मे विंडो इंस्टॉल होना शुरू हो जाता है। बीच-बीच मे आपका कंप्युटर रिस्टार्ट भी होता है, अंत मे आप यूजर नेम ओर पासवर्ड लगाकर विंडो इन्स्टलैशन को पूरा कर सकते है। तो ये रहे कंप्युटर को फॉर्मैट करने के तीन आसान तरीके, आप इनमे से किसी भी तरीके का इस्तेमाल कर सकते है। चलिए अब हम फॉर्मैट का मतलब जानते है।


कंप्यूटर को फॉर्मेट करना क्या है? (मतलब)

वैसे साधारण लोगों को यह एक गलत धारणा रहता है की कंप्युटर फॉर्मैट का मतलब जैसे की फोन को हम हार्ड रीसेट करते है, वैसा ही कुछ कंप्युटर के केस मे होता है, जिसमे की पर्सनल डाटा डिलीट हो जाने के बाद वापस से फ्रेश एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम के तरह हमारा कंप्युटर भी चालू हो जाता है। लेकिन यह धारणा बिल्कुल गलत है।

कंप्युटर फॉर्मैट करने का मतलब यह होता है की आप अपने कंप्युटर के हार्ड ड्राइव मे बने हुए Partition (पार्टिशन) मे से किसी एक या सभी पार्टिशन को डिलीट करना चाहते है। ओर नई विंडो को इंस्टॉल करना चाहते है। क्यूंकी यंहा आप जिस भी पार्टिशन को डिलीट करते है, उसका सारा डाटा पर्मानेंटली डिलीट हो जाता है। चलिए अब हम कंप्युटर फॉर्मैट करने के फायेदे को जानते है।


कंप्युटर फॉर्मैट करने के फायदे

कंप्युटर फॉर्मैट करने के बहूत सारे फायेदे है, सभी के बारे मे लिखना तो संभव नहीं है, लेकिन हाँ उन्मे से जो कॉमन है, उसके बारे मे नीचे दिए गए है।

  1. यह आपके हार्ड डिस्क ड्राइव मे बने किसी पार्टिशन को डिलीट करता है, मतलब उसमे उपलब्ध सभी फाइल और फ़ोल्डर को डिलीट करता है। एक तरह से यह आपके हार्ड डिस्क मे किसी खास जगह हो साफ-सुथरा कर देता है, जिससे की कचरा नहीं हो पाता है।
  2. आपके हार्ड डिस्क मे उपलब्ध वायरस प्रोग्राम्स को भी साथ मे ही डिलीट कर देता है।
  3. आप पुनः दुबारा से फ्रेश नया पार्टिशन बनाकर एक नई विंडो को इंस्टॉल कर सकते है, जिससे की आपका कंप्युटर बहूत फास्ट चलता है।
  4. यह आपके कंप्युटर मे पहले से इंस्टॉल अनवांटेड सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स को भी डिलीट कर देता है।
  5. कुलमिलाकर यह आपके कंप्युटर हार्ड डिस्क मे जमे हुए कचरे को साफ कर देता है, जिसके परिणाम स्वरूप आपका कंप्युटर पहले की तुलना मे बहूत फास्ट हो जाता है।  

कंप्युटर फॉर्मैट करने के संबंध मे आपके सवालों के जवाब

1. मैं अपने लैपटॉप में विंडोज 10 को रिफॉर्मेट कैसे करूं?

आप अपने लैपटॉप या कंप्युटर मे विंडो 10 को रिफॉर्मैट कर सकते है, उसके लिए आपको ऊपर तीन तरीके बताए गए है, जैसे: Disk Management के मदद से लेकिन, आपके लिए तीसरा तरीका सबसे उपयोगी है।

2. कंप्यूटर को फॉर्मेट करने का मतलब क्या होता है?

कंप्युटर फॉर्मैट करने का मतलब, यह होता है की आप अपने कंप्युटर के हार्ड ड्राइव मे बने हुए Partitions (पार्टिशन) मे से किसी एक या सभी पार्टिशन को डिलीट करना, ओर नई विंडो को इंस्टॉल करना होता है।

3. कंप्युटर को फॉर्मैट करने के कितने तरीके है?

वेसे तो कंप्युटर को फॉर्मैट करने के बहूत तरीके है, लेकिन आपको इस आर्टिकल मे तीन तरीके बताए गए है।
1. Disk Management के मदद से
2. File Explorer के मदद से और
3. Bootable Pen Drive के मदद से

4. कंप्युटर को फॉर्मैट करने से क्या फायदे होते है?

कंप्युटर को फॉर्मैट करने से अनेकों फायेदे होते है, उसमे से सबसे बड़ा फायेदा यह है, की आपका कंप्युटर पहले की तुलना मे बहूत फास्ट हो जाता है। आपके कंप्युटर से पूराने सॉफ्टवेयरस ओर वायरस डिलीट हो जाते है।

5. USB Flash Drive क्या होता है ।

यह एक बूट ऐबल पेन ड्राइव होता है। जिसका इस्तेमाल से हम नए ऑपरेटिंग सिस्टम को अपने कंप्युटर मे इंस्टॉल करते है।


निष्कर्ष

इस आर्टिकल मे कंप्युटर फॉर्मैट कैसे करे आपने इसके बारे मे जाना । आपने सबसे पहले कंप्युटर को फॉर्मैट करने से पहले कुछ जरूरी बातों को जाना जैसे 1. आप अपना इम्पॉर्टन्ट फाइल ओर फ़ोल्डर्स का बैकअप कर ले, 2. आप अपना कंप्युटर या लैपटॉप 100% चार्ज रखे नहीं तो फॉर्मैट के समय आपका कंप्युटर बंद हो सकता है।

फिर आपने कंप्युटर को फॉर्मैट करने के तीन आसान तरीकों के बारे मे जाना। पहला तरीका: Disk Management टूल के मदद से, दूसरा तरीका: File Explorer के मदद से और तीसरा तरीका: Bootable Pen Drive के मदद से फॉर्मैट होता है।

फिर आपने कंप्युटर फॉर्मैट करने का मतलब भी जाना, और अंत मे आपने कंप्युटर फॉर्मैट करने के फायेदे को भी जाना, की यह आपके कंप्युटर की स्पीड को पहले से और अधिक बढ़ा देता है। उम्मीद है, की यह आर्टिकल आपको बेहद पसंद आई होगी। किसी भी प्रकार के प्रश्न के लिए नीचे कमेन्ट जरूर करे।

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

मुझे टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ना और लिखना बहुत अच्छा लगता है। इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में लोगों के साथ जानकारी शेयर करके मुझे खुशी महसूस होती है। इसके अलावा फोटोग्राफी करना मेरी हॉबी है। मैंने एक इंजीनियर के रूप में शिक्षा ली है और पेशे से अब मैं एक पार्ट-टाइम Professional Blogger हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here