👩🏻‍💻Computer कितने प्रकार के होते हैं; कंप्यूटर को कितने भागो मे बांटा गया है

Computer ने आते ही दुनिया को बदल कर रख दिया है। सभी लोग लगभग अपने हर छोटे-बड़े कार्य को Computer के द्वारा पूरा करने लगे है और जो लोग अभी Computer का इस्तेमाल नहीं कर रहे है इसका मतलब ये नहीं की वे Computer का इस्तेमाल नहीं करना चाहते है।

computer ke prakar

वे करना तो चाहते है लेकिन उनको समझ मे नहीं आ रहा है की आखिर Computer के इतने सारे प्रकार मे से उनके कार्य के लिए कौन सा प्रकार का Computer बेस्ट है। जी हाँ आपने सही पढ़ा है, Computer के कई सारे प्रकार है। आप अपने घर या ऑफिस मे जो Computer देखते है, वह भी एक Computer का प्रकार है।

इस आर्टिकल मे आप Computer के सभी प्रकार के बारे मे जानेंगे। Computer इंसान के द्वारा खोज किया गया एक बहूत ही महत्वपूर्ण यंत्र है। यह हमारे कार्य को आसान करने के साथ-साथ हमारे अनेकों काम आता है। उदाहरण के लिए: यह बहूत सारे डाटा को सूचीबद्ध तरीकों से स्टोर करके रखता है, जो बाद मे हमारे बहूत काम आते है। यह किसी खास प्रकार के साउन्ड और इमेज को उत्पन्न कर सकता है, यह हमारे लिए कॉमप्लक्स गणितीय प्रॉब्लेम्स को सॉल्व करता है इत्यादि। 

पेज का इंडेक्स

Computer कितने भागो में बाटा गया है?

वेसे तो Computer के अनेकों प्रकार है, सभी को हम एक साथ लिस्ट मे नहीं जोड़ कर सकते है। लेकिन हम Computer के प्रकार को उसके आकार के आधार पर, उसके उदेश्य के आधार पर, उसके कार्यप्रणाली के आधार पर बाँट सकते है। नीचे आपको अलग-अलग प्रकार के आधार पर Computer के प्रकार के बारे मे बताया गया है।

आकार के आधार पर Computer कितने प्रकार के होते हैं

आकार के आधार पर Computer चार प्रकार के होते है। जिसे नीचे दिए:

computer ke  prakar
  1. Micro Computers
  2. Mini Computers
  3. Mainframe Computers और
  4. Super Computers इत्यादि।

इन सबके बारे मे थोड़ा डीटेल मे आपको नीचे बताए गया है।

1. Micro Computers क्या होता है।

यह एक प्रकार का Computer होता है, जोकि आकार मे ऊपर दिए गए सभी Computer से छोटा होता है। यह अधिक महंगा नहीं होता है। इसमे एक छोटा सा माइक्रोप्रोसेसर लगा होता है, जो इसके लिए एक CPU का कार्य करता है। यह एक बार मे एक यूजर के काम मे आता है।

Micro Computer आपको अधिकतर एक टैबलेट के साइज़ से बड़ा नहीं दिखता है। इस प्रकार का Computer दूसरे छोटे उपकरण के फॉर्म मे भी हो सकता है। उदाहरण के लिए एक स्मार्ट वाच, स्मार्ट फोन एक हेल्थ मोनिट्रिंग डिवाइस इत्यादि। इसलिए माइक्रो Computer का सबसे अच्छा उदाहरण मोबाईल फोन, Tablets तथा Smartwatches है।

2. Mini Computers क्या होता है।

यह भी Computer का एक प्रकार होता है। इसका आकार माइक्रो Computer से बड़ा होता है। यह आपको मार्केट मे मिड रेंज बजट मे मिल जाते है। इस प्रकार का Computer सिंगल चिप पर आधारित Computer नहीं होता है। इसमे एक से अधिक कोर (मल्टीकोर) वाला प्रोसेसर का इस्तेमाल किया जाता है।

जोकि एक साथ कई सारे टास्क को पूरा करते है। इसी कारण से इसे Multi-user Computer System कहा जाता है, यह 100 से अधिक यूजर को एक साथ जोड़ कर उनके कार्य को पूरा करने का सामर्थ्य रखता है।

सबसे फेमस Altair 8800 नाम का यह एक मिनी Computer था जिसे 1975 मे लॉन्च किया गया था। मिनी Computer का सबसे अच्छा उदाहरण लैपटॉप या डेस्कटॉप, Computer, सर्वर Computer इत्यादि है। आपने एक और टर्म यानि सुपर मिनी Computer के बारे मे सुन होगा।

तो इसका मतलब यह नहीं की यह बहूत ही छोटा होता है, बल्कि इसका मतलब यह है की यह उसी आकार मे दूसरे मिनी Computer से अधिक पावर फूल है।

3. Mainframe Computers क्या होता है।

Mainframe computers भी Computer का एक प्रकार होता है। जिसका आकार मिनी Computer ओर माइक्रो Computer से बड़ा होता है। यह आपको मार्केट मे थोड़े महंगे मिलते है। इस प्रकार का Computer मिनी Computer से भी अधिक काम्प्यूटैशनल पावर वाला है। यानि की यह मिनी Computer से अधिक इन्स्ट्रक्शन को एक सेकंड मे पूरा करता है।

mainfrme computer

Mainframe Computers भी एक Multi-user Computer System है। जोकि एक बार मे 100 मिलिऑनस लोगों से भी अधिक लोगों के इन्स्ट्रक्शन को सिमुलटेनेऔसली पूरा करने का सामर्थ रखता है। आसान भाषा मे यह लगभग 1000 लाख लोगों के कार्य को एक साथ पूरा कर सकता है।

इस प्रकार के Computer का इस्तेमाल बड़े-बड़े संघठनों ओर कॉम्पनियों के लिए किया जाता है। ये सभी बहूत बड़े डाटा को इकठा कर उसका इस्तेमाल, स्टेटिस्टिक्स, मौसम फोरकास्टिंग, इत्यादि कार्यों के लिए किया जाता है। इसके आलवा इसका इस्तेमाल Census Data Processing, बैंकों दुवार Transaction Processing इत्यादि के लिए किया भी जाता है।

इस प्रकार के Computer की स्पीड को MIPS (Millions of Instruction per Seconds) मे मापा जाता है। Mainframe computers का सबसे अच्छा उदाहरण IBM कंपनी के दुवार बनाया गया IBM z Series, System z9 and System z10 servers है।

4. Super Computers क्या होता है।

Super computers भी एक प्रकार का बड़ा जाइअन्ट Computer होता है। जैसे की इसके नाम से ही लग रहा है की ऊपर दिए गए सभी Computer से आकार मे बड़ा ओर कम्प्यूटिंग पावर मे अधिक होता है। अर्थात यह गणितीय गणना करने मे सबसे पावर फूल होता है।

super computer image
super computer image credited wired

इसका कम्प्यूटिंग पावर को टकर देने के लिए आजतक ऐसा कोई दूसरे प्रकार का Computer नहीं बना है। हालांकि यह एक अलग बात है की Quantum Computer भविष्य मे आने वाले Computer मे से सबसे पावरफूल Computer हो सकता है।

एक सुपर Computer का वास्तविक परफॉरमेंस को MIPS के जगह पर FLOPS मे मापा जाता है। पूरे देश मे मौजूदा 500 कॉमपुटर्स Linux-based ऑपरेटिंग सिस्टम है। हालांकि China, Taiwan ओर US जैसे देश सुपर Computer को और ही ज्यादा पावरफूल बनाने के लिए निरंतर रिसर्च कर रहे है। जोकि सुपर Computer से Supreior Supercomputer होगा।

सुपर Computer का इस्तेमाल अधिकतर रिसर्च के क्षेत्र मे, Quantum Mechanics, Weather Forecasting, Climate Research, Oil and Gas Exploration, Molecular Modeling, और Physical Simulations इटयादी कार्यों मे किया जाता है। सुपर Computer वास्तव मे बड़े-बड़े डाटा के Computation के लिए जाना जाता है।

तो ये रहे आकार के आधार पर Computer के प्रकार। चलिए अब हम उद्देश्य के आधार पर Computer कितने प्रकार के होते हैं इसके बारे मे जानते है।


उद्देश्य के आधार पर Computer कितने प्रकार के होते हैं

उद्देश्य के आधार पर Computer चार प्रकार के होते हैं। जिसे नीचे दिए।

  1. Servers
  2. Workstation
  3. Information Appliances और
  4. Embedded computers इत्यादि।

इनके बारे मे नीचे थोड़ा डीटेल मे समझाया गया है।

1. Servers क्या होते है?

सर्वर एक प्रकार का Computer होता है, जिसे किसी खास सर्विस को निरंतर प्रदान करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। उदाहरण के लिए Web Applications के लिए Http सर्वर, Apache Web Server, डाटा के लिए डाटाबेस सर्वर, सिक्युरिटी के लिए Security Server इत्यादि।

server from pexel
server image credit pexel

सर्वर एक प्रकार का प्रोग्राम होता है, जिसे किसी खास Computer पर रन किया जाता है। आप ऐसा समझे की किसी प्रोग्रामिंग भाषा मे लिखे गए कोड को कम्पाइल या एक्सक्यूट करने के लिए हमे कम्प्यूटिंग पावर की जरूरत पड़ती है, तो इस कार्य को करने के लिए बैकएंड मे जिस Computer का इस्तेमाल किया जाता है उसे ही सर्वर कहते है।

2. Workstation क्या होते है?

यह भी एक प्रकार का Computer होता है जिसका इस्तेमाल सिंगल यूजर के लिए कार्य को पूरा करने के लिए किया जाता है।

Workstation Computer खासतौर पर एक पर्सोनल या कमर्शियल कार्यों को पूरा करने के लिए बनाया गया है जोकि मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग करता है।

3. Information Appliances क्या होते है?

यह छोटे प्रकार के Computer होते है। वे पोर्टेबल डिवाइस हैं जिन्हें बुनियादी गणना, मल्टीमीडिया खेलना, इंटरनेट ब्राउज़ करना आदि जैसे सीमित कार्यों को करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।  उन्हे Information Appliances कहते है।

4. Embedded computers क्या होते है?

Embedded computers एक प्रकार के कमांड आधारित Computer होते है। जिसका इस्तेमाल Production और Automation इंडस्ट्री मे किया जाता है। इसमे किसी खास पोग्राम को लोड कर उसे बार बार एक्सक्यूट कराया जाता है। जरूरत पड़ने पर नए प्रोग्राम को बदले भी जाते है।

इस प्रकार के कंप्युटर ऑटमैशन के लिए जाने जाते है।


Data Handling के आधार पर Computer कितने प्रकार के होते है।

Data Handling के आधार पर Computer तीन प्रकार के होते है। जिसे नीचे दिया गए है।

  1. Analog
  2. Digital
  3. Hybrid

चलिए अब इनके बारे मे भी थोड़ा विस्तार से समझते है।

1. Analog Computer क्या होता है?

Analog Computer एक प्रकार का ऐसा Computer होता है, जो की निरंतर बदलते हुए फिज़िकल पारामीटर डाटा को रीसीव कर उसका प्रोसेसिंग करता है। फिज़िकल पारामीटर जैसे की Temperature, Pressure, Moisture इत्यादि। उदाहरण के लिए थर्मो मिटर से प्राप्त डाटा को प्रोसेस करने के इस्तेमाल मे लगाया गया Computer।

2. Digital Computer क्या होता है?

Digital Computer एक प्रकार का ऐसा Computer होता है, जो की डिजिटल डाटा को प्रोसेस करता है। यह गणितीय कैल्क्यलैशन ओर लाजिकल ऑपरेशन को पर्फॉर्म करने के लिए नूमेरिक डिजिट का उपयोग करता है।

laptop or workstation photo

Digital Computer नूमेरिक डेसमल डिजिट (0-9) को बाइनरी डिजिट (0 या 1) मे कन्वर्ट करता है। मूलरूप से यह बाइनरी भाषा का उपयोग करता है। Digital Computer का सबसे अच्छा उदाहरण लैपटॉप, स्मार्टफोन, स्मार्ट वाच इत्यादि है।

3. Hybrid (हाइब्रिड) Computer कितने प्रकार के होते हैं?

वैसे Computer जोकि ऐनलॉग ओर डिजिटल दोनों प्रकार के डाटा को प्रोसेसिंग करता है हाइब्रिड Computer कहलाता है। यह ऐनलॉग सिग्नल को रीसीव कर उसे डिजिटल सिग्नल मे कन्वर्ट करता है

तो ये रहे Computer के सभी प्रकार चलिए अब हम अन्य प्रकार के Computer को भी जानते है।


डिजिटल Computer कितने प्रकार के होते हैं?

विश्व में डिजिटल Computer एक ऐसा Computer का प्रकार है जिसे सर्वाधिक इस्तेमाल में लाया जाता है। इसलिए आज जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में डिजिटल कंप्यूटर्स देखने को मिल जाते हैं।

हाँ एक जमाना था जब ऐनलॉग Computer या मकैनिकल Computer का इस्तेमाल अपने चरम सीमा पर था। लेकिन अब जमाना डिजिटल का है तो सिर्फ डिजिटल Computer ही उपयोग मे लाए जाते है।

नीचे डिजिटल Computer के प्रकार दिए गए है। यंहा सिर्फ इनके नाम दिए गए है।

  1. Super Computers
  2. Micro Computers
  3. Mini Computers और
  4. Mainframe Computers इत्यादि

इनके बारे मे ऊपर अच्छे से इक्स्प्लैन किया गया है।


Computer के चार प्रकार कौन कौन से है?

Computer के चार प्रकार के नाम नीचे दिए गए है।

  1. सुपर Computer (Super Computer)
  2. मेनफ़्रेम Computer (Mainframe Computer)
  3. मिनी Computer (Mini Computer) और
  4. माइक्रो Computer (Micro Computer) इत्यादि।

माइक्रो कंप्युटर कितने प्रकार के होते हैं?

जैसे की आप जानते है की Micro Computer (पर्सनल कार्यों के लिए, एनर्टैन्मन्ट के लिए) उपयोग मे लाया जाता है। माइक्रो Computer के अनेकों प्रकार है, जो की नीचे दिए गए है।

  1. डेस्कटॉप माइक्रो Computer
  2. लैपटॉप माइक्रो Computer
  3. पीडीए माइक्रो Computer
  4. पामटॉप माइक्रो Computer
  5. वर्कस्टेशन माइक्रो Computer
  6. सर्वर माइक्रो Computer
  7. मिनी टावर माइक्रो Computer
  8. फुल टावर माइक्रो Computer

डिजिटल Computer के लाभ

डिजिटल Computer के अनेकों लाभ (Advantages) है, जिसे नीचे टेबल मे दिए गए है।

SNTermsAdvantages
 1.Automationडिजिटल Computer मे एक बार प्रोग्राम को लोड कर देने के बाद यह ऑटोमैटिक उसे रन करता रहता है, जब तक की वह लूप को पूरा न कर ले। इससे हमे स्वचालित कार्य करने का लाभ प्राप्त होता है।
 2.Accuracyडिजिटल Computer ऐनलॉग के तुलना मे बहूत ऐक्यरिट होता है। उदाहरण के लिए एक डिजिटल घड़ी मे 24 घंटे के अंतराल मे 1 सेकंड आगे पीछे हो जाता है। जबकि ऐनलॉग मे 3-4 मिनट।
 3.Reliabilityयह काफी रीलाइअबल होता है। जैसे की आप जानते है की यह काफी हद तक सटीक गणना करता है, तो इसीलिए इस पर भरोसा किया जा सकता है। साथ मे इसमे स्टोर किया हुआ डाटा कम ही क्रैश होते है।
 4.Cost Reductionयह कोस्ट की बचत करता है। मान ले आगर आपको 1 लाख बुक लिखने की जरूरत है, तो आपको कई लाख पन्नों के जरूरत पड़ते है, लेकिन यही काम आप Computer मे बिना कागज खर्च किए कर सकते है।
 5.Communicationयह एक दूसरे से एकदम सटीक बात कर सकते है। इनमे कम्यूनिकेशन के दौरान किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं होता है, जब तक की मानव खुद उसमे बदलाव करे।
 6.Storage Capabilityइसका भंडारण क्षमता बहूत अधिक होता है। आप इसमे अपने पर्सनल फाइल फोटो ओर विडिओ को सुरक्षित रख सकते है। आप उन्हे एक Computer से दूसरे Computer मे आसानी से शेयर भी कर सकते है।
 7.Diligenceडिजिटल Computer बहूत की मेहनती होते है। यह बिना रुके थके कार्य को करते रहते है। जहां एक इंसान कुछ समय के बाद थक कर बैठ जाता है, वही एक मशीन तब-तक कार्य करता है जब तक उसको इनपुट मे ऊर्जा दिया जा रहा है।  

Computer के प्रकार से संबंधित आपके सवालों के जवाब

1. Computer के चार प्रकार कौन कौन से है?

Computer के चार प्रकार के नाम नीचे दिए गए है।
1. सुपर Computer (Super Computer)
2. मेनफ़्रेम Computer (Mainframe Computer)
3. मिनी Computer (Mini Computer)
4. माइक्रो Computer (Micro Computer) ये सभी Computer अधिकतर इस्तेमाल मे लाए जाते है।

2. क्या Computer पर भरोसा किया जा सकता है?

जी हाँ Computer पर बिल्कुल भरोसा किया जा सकता है। यह हमे सटीक वैल्यू देता है ओर इसमे रखे गए फाइल और फोटो सुरक्षित रहते है।

3. डिजिटल Computer कितने प्रकार के होते है?

डिजिटल Computer चार प्रकार के होते है, जिसके नाम नीचे दिए गए है।
1. Super Computers
2. Micro Computers
3. Mini Computers और
4. Mainframe Computers इत्यादि
इनके बारे मे ऊपर अच्छे से इक्स्प्लैन किया गया है।

4. Digital Computer क्या होता है?

डिजिटल Computer एक प्रकार का ऐसा Computer होता है, जोकि डिजिटल डाटा का इस्तेमाल करता है। यह गणितीय कैल्क्यलैशन ओर लाजिकल ऑपरेशन को पर्फॉर्म करने के लिए नूमेरिक डिजिट (0-9) का उपयोग करता है।

5. PC (Personal Computer) किसे कहते है?

PC या पर्सनल Computer मिनी Computer होता है, चूंकि इस प्रकार का Computer अधिकतर पर्सोनल कार्यों के लिए इस्तेमाल मे आता है, इसलिए इसे पर्सनल Computer कहा जाता है।

6. Desktop और Laptop मे मुख्य अंतर क्या है?

Desktop और Laptop मे मुख्य अंतर सिर्फ इतना है की जिस Computer को हम डेस्क यानि की टेबल पर रखकर उसको ऑपरैट करते है, उसे डेस्कटॉप कहते है।

जबकि जिस Computer को हम अपने लैप जिसे गोद कहते है, मे रखकर ऑपरैट कर सकते है उसे लैपटॉप कहते है। इसके आलवा डेस्कटॉप लैपटॉप के तुलना मे अधिक बड़ा ओर भारी वजन का होता है

7. Workstations क्या होता है।

Workstations एक प्रकार का ऐसा कंप्युटर होता है, जिसको खशतौर पर इंडस्ट्री रेलेवेंट कार्य करने के लिए बनाया जाता है। Workstation कई अन्य कंप्युटर को आपस मे जोड़ता है।

8. Shared Computer क्या होता है?

यह एक प्रकार का ऐसा Computer होता है, जिसमे एक समय मे एक लोग ओर फिर दूसरे समय मे दूसरे लोग उसी Computer को एक्सेस कर सकते है। इसके लिए हार्डवेयर ओर सॉफ्टवेयर को उस प्रकार से डिजाइन किया जाता है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल मे आपने सभी प्रकार के Computers के बारे मे जाना। जैसे की आपने सबसे पहले जाना की हम Computer के प्रकार को उसके आकार के आधार पर, उसके उदेश्य के आधार पर, उसके कार्यप्रणाली के आधार पर बाँट सकते है।

आकार के आधार पर कंप्युटर चार प्रकार के होते है। Micro Computers, Mini Computers, Mainframe Computers और Super Computers इत्यादि। उद्देश्य के आधार पर Computer चार प्रकार के होते हैं। Servers, Workstation, Information Appliances और Embedded computers इत्यादि।

Data Handling के आधार पर कंप्युटर तीन प्रकार के होते है। Analog, Digital, Hybrid। आपने फिर यह भी जाना की डिजिटल Computer चार प्रकार के होते हैं: 1.Super Computers, 2.Micro Computers, 3.Mini Computers और 4.Mainframe Computers इत्यादि।

आपने फिर माइक्रो Computer के प्रकार के बारे मे जाना वे निम्नलिखित प्रकार के होते है: लैपटॉप माइक्रो Computer, पीडीए माइक्रो Computer, पामटॉप माइक्रो Computer, वर्कस्टेशन माइक्रो Computer, सर्वर माइक्रो Computer, मिनी टावर माइक्रो Computer इत्यादि।

और फिर अंत मे आपने डिजिटल Computer के लाभ के बारे मे जाना वे इस प्रकार है: Automation, Accuracy, Reliability, Cost Reduction, Communication, Storage Capability इत्यादि।

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

मुझे टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ना और लिखना बहुत अच्छा लगता है। इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में लोगों के साथ जानकारी शेयर करके मुझे खुशी महसूस होती है। इसके अलावा फोटोग्राफी करना मेरी हॉबी है। मैंने एक इंजीनियर के रूप में शिक्षा ली है और पेशे से अब मैं एक पार्ट-टाइम Professional Blogger हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here