NEFT क्या है कैसे काम करता है Full Form क्या है

Internet के इस जमाने में Net Banking के माध्यम से पैसे ट्रांसफर करने के बहुत सारे उपाय हैं इनमें से एक प्रक्रिया है NEFT। आप में से बहुत सारे लोग NEFT के माध्यम से online फंड ट्रांसफर करते होंगे परंतु क्या आप NEFT के बारे में विस्तार में जानते हैं यदि नहीं तब आज का यह आर्टिकल आप सभी के लिए बहुत उपयोगी होने वाला है। 

NEFT क्या है

परंतु, आप लोगों को शायद NEFT  के बारे में पूरी जानकारी नहीं है। आज के इस पोस्ट के दौरान हम NEFT के बारे में यानी कि NEFT क्या है? NEFT कैसे काम करता है? NEFT का पूरा नाम क्या है? इसके बारे में  आप लोगों को पूरी जानकारी देने वाले है। इसलिए पूरे पोस्ट को ध्यान से पढ़ें।

NEFT क्या है?

NEFT online banking की एक प्रक्रिया है। अगर साधारण भाषा में NEFT  को परिभाषित करें तो यह है “राष्ट्रीय बैद्युतिन निधि अंतरण” की प्रक्रिया। यानी कि online mode के द्वारा fund ट्रांसफर करने की प्रक्रिया है। NEFT के द्वारा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक account मैं फंड ट्रांसफर किया जाता है।

यह सुविधा देशव्यापी है, अर्थात, पूरे भारत में NEFT जितनी बैंक में प्रचलित है उन बैंक में से एक बैंक account से दूसरे बैंक Account मैं निधि अंतरण किया जाता है। NEFT का शुरुआत हुआ था 2005 में RBI द्वारा । NEFT RBI (Reserve Bank of India) के द्वारा संचालित होता है।

NEFT का Full Form क्या है?

NEFT का Full Form National Electronic Fund Transfer है। जिसे हिंदी में राष्ट्रीय बैद्युतिन अंतरण कहां जाता है। NEFT के माध्यम से पैसा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में electronically ट्रांसफर किया जाता है। NEFT प्रक्रिया  में लाभार्थी और प्रेरक दोनों के बैंक अकाउंट NEFT प्रक्रिया में  एनाबेल होना अनिवार्य है। 

NEFT कैसे काम करता है

Online mode के द्वारा फंड ट्रांसफर करने के जितने  भी उपाय हैं सभी उपाय में से सबसे आसान  और लोकप्रिय प्रक्रिया है। NEFT  कैसे काम करता है इसके बारे में हम आपको विस्तार में बताने वाले हैं। NEFT के द्वारा फंड ट्रांसफर करते वक्त प्रेरक को आवश्यक लाभार्थी की पूरी जानकारी प्रदान करनी पड़ती है। यानी कि लाभार्थी की बैंक अकाउंट नंबर, ब्रांच की नाम, IFSC Code, account type

अगर आप बिना किसी परेशानी के बहुत ही आसान तरीके से फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो आपको लाभार्थी की पूरी जानकारी यानी की detail अच्छे तरीके से check करके प्रदान करना होगा। यदि आप initially  beneficiary list में किसी नए ग्राहक को add करना चाहते हैं, तो इस परिस्थिति में नए बेनिफिशियरी के नाम को Add करने के लगभग 30 मिनट बाद बैंक Transaction को शुरू कर सकते हैं। 

Transaction  शुरू करने के तुरंत बाद बैंक एक message ready करता है, और वह उस मैसेज को bank पोलिंग सेंटर में प्रेरित करता है। जिसे कहा जाता है नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सर्विस सेंटर (National Electronic Fund Transfer Service Centre) यह polling centre message को forward करता है नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के क्लीयरिंग सेंटर में जो RBI Bank के द्वारा संचालित होता है।

यह Clearing Centre निधि ट्रांसफर के साथ जुड़े हुए सारे लेन देन को Sort Out करता है, और beneficiary bank के अनुसार अकाउंटिंग एंट्रीज़ को तैयार करता है और प्रेरक बैंक से फंड ट्रांसफर करता है और ग्राहक बैंक को पैसा प्रदान करता है। इसके बाद पोलिंग सेंटर के द्वारा लाभार्थी बैंक में इस ट्रांसफर प्रक्रिया के साथ सम्पर्कित messages forward किए जाते हैं, और ग्राहक बैंक inward मैसेज रिसीव करता है।


NEFT से पैसे कैसे भेजे

NEFT से पैसे भेजने की प्रक्रिया के बारे मे नीचे विस्तार में बताया गया है।

1. सबसे पहले आपको आपके Net Banking  साइट पर login  करना पड़ेगा यदि आपकी  कोई नेट बैंकिंग अकाउंट नहीं है, तब आपके जिस बैंक में अकाउंट है उस बैंक की Website में जाकर register करना पड़ेगा।

2. इसके बाद, लाभार्थी को Payee के रूप में जोड़ने के लिए Add New Beneficiary Section पर जाकर Bank Details को दर्ज करना पड़ेगा। 

3. Payee के सभी जरूरी बैंक डिटेल जैसे कि अकाउंट नंबर, IFSC कोड,  ब्रांच नेम, अकाउंट टाइप को जोड़ने के बाद आपको NEFT Choice करनी पड़ेगी।

4.NEFT के प्रोसेस को चुन लेने के बाद आप जिस अकाउंट से पैसे ट्रांसफर करना चाहते हैं उस अकाउंट को आप को सलेक्ट कर लेना होगा, उसके बाद आप जिस लाभार्थी को पैसे भेजना चाहते हैं उसका नाम और Amount सिलेक्ट कर देना होगा।

5. लाभार्थी के सभी डिटेल को दर्ज कर देने के बाद, आपको Click On Submit के ऊपर क्लिक करना होगा, उसके बाद पैसे लाभार्थी के अकाउंट में दर्ज हो जाएगा। 


NEFT से पैसे भेजने में कितना समय लगता है

NEFT  के माध्यम से फंड ट्रांसफर करने में 1 से 2 घंटे तक का समय लगता है। अब आप किसी भी समय NEFT से पैसे भेज सकते है ये सेवा 24/7 चालू रहती है और आप किसी भी समय इस सेवा का इस्तेमाल करके किसी व्यक्ति को पैसे भेज सकते हो। 


NEFT व IMPS मैं क्या अंतर है?

NEFT के बारे में ऊपर बताए गए जानकारी को जानने के बाद अब आप सबके मन में यह बात जरूर आया होगा कि NEFT की तरह IMPS भी तो है एक नेट बैंकिंग प्रक्रिया। दरअसल NEFT और IMPS  दोनों ही ऑनलाइन मनी ट्रांसफर प्रोसेस है। अगर आप एक ही बैंक के एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट पर मनी ट्रांसफर करते हैं इस दौरान NEFT, IMPS  इस तरह की प्रोसेस की जरूरत नहीं होती है।

अगर ,आप एक बैंक अकाउंट से किसी दूसरे ब्रांच के बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करना चाहते हैं तो फिर NEFT, IMPS की जरूरत होती है । यदि आप SBI के बैंक अकाउंट से Bank of Baroda के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करना चाहते हैं, इस दौरान NEFT, IMPS की जरूरत होती है। मगर फिर भी इन दोनों  ऑनलाइन प्रक्रियाओं में  कुछ अंतर है।

विषय                NEFT                IMPS
संपूर्ण नामNational Electronic Fund TransferImmediate payment Service
क्या है?NEFT है एक ऑनलाइन फंड ट्रांसफर प्रक्रिया जिसके द्वारा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में फंड ट्रांसफर किया जाता है ।IMPS  है  एक  नेट बैंकिंग प्रोसेस जिस के द्वारा पैसा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में तत्काल अंतरण किया जा सकता है।
लेन-देन की समयNEFT के तहत एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसे ट्रांसफर होने में 1 से 3 घंटे तक का समय लगता है।IMPS के द्वारा एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसे ट्रांसफर तत्काल हो जाते है। 
लेनदेन की सीमाएंNEFT  मैं ट्रांजैक्शन की कोई सीमा नहीं है। सबसे कम ₹200000 और सब से  ज्यादा जितने भी चाहे अमाउंट तक आप ट्रांसफर कर सकते हैं।IMPS  में सबसे कम ₹1 से शुरू करके सबसे ज्यादा ₹200000 तक  amount  1 दिन में ट्रांसफर किया जा सकता है।
Bank ChargesNEFT का इस्तेमाल करने के लिए बैंक से कुछ charges  काटे जाते हैं ,यदि ,आप SBI के rules  को देखें तो SBI के हिसाब से NEFT इस्तेमाल करने पर यदि आप ₹10,000 का ट्रांजैक्शन करें तो ₹2,और, यदि आप ₹100000 का transaction करें तो ₹5 चार्ज लिए जाते है।यदि आप IMPS  के द्वारा पैसे ट्रांसफर करें तो इसमें बैंक ₹5 से लेकर ₹15 तक चार्ज करता है।

NEFT ब RTGS  मैं क्या अंतर है

NEFT की तरह RTGS भी एक नेट बैंकिंग प्रोसेस है। मगर, NEFT और IMPS की तरह NEFT और RTGS  में भी कुछ अंतर है।

विषय                      NEFT                  RTGS
सम्पूर्ण नामNational Electronic Fund TransferReal Time Gross Settlement
क्या है?NEFT है एक ऑनलाइन फंड transferring  प्रक्रिया जिसके जरिए फंड   electronically ट्रांसफर किया जाता है ।RTGS  है एक ऑनलाइन money transferring  प्रोसेस जिसके जरिए money real time में ही ट्रांसफर हो जाता है ।
लेनदेन कि सीमाएंNEFT  मैं ट्रांजैक्शन की कोई सीमा नहीं है। सबसे कम ₹200000 और सब से  ज्यादा जितने भी चाहे अमाउंट तक आप ट्रांसफर कर सकते हैं।RTGS मैं सब से कम ₹ 200000 और सब से ज्यादा लेनदेन की कोई सीमा नहीं है।

 सारांश

आज की इस पोस्ट पर हमने NEFT के बारे में पूरे विस्तार में बताया है। हमें उम्मीद है आज की इस पोस्ट को पढ़कर आप जरूर जान गए होंगे कि NEFT क्या है? NEFT का full form क्या है? NEFT कैसे काम करता है.

आज के इस पोस्ट को पढ़कर अगर आपके मन में NEFT संबंधित कोई सवाल आए तो आप बेजिजक नीचे कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके हमें पूछ सकते हैं। और यदि आपको लगे की आज का  इए  पोस्ट आपके लिए बहुत ही उपयोगी है तब  आप हमारे ब्लॉग के दूसरे पोस्ट को पढ़ सकते हैं।

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

लॉजिकलदोस्त टीम, LogicalDost प्लेटफॉर्म पर कुछ लोगों का समूह है ये समूह अलग अलग विषयों पर अच्छे ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से लोगों को इंटरनेट व टेक्नोलॉजी के बारे मे जानकारी देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here