Input Device क्या है; इनपुट डिवाइस के प्रकार (सम्पूर्ण ज्ञान)

आज के Digital युग में Computer और Laptop के बिना कोई भी कार्य करना असंभव जैसा हो गया है, प्रत्येक क्षेत्र में ही कंप्यूटर का उपयोग ज़रूरी है। वर्तमान समय में लगभग सभी computer और laptop का इस्तेमाल करते है, शायद आप भी Desktop के यूजर है, तब तो आप जरूर जानते होंगे डेस्कटॉप में बहुत सारा External Device रहेता है, जिसे दोनों हिस्सों में बांटा जाता है एक है Input Device, और दूसरा है Output Device

Input Device kya hai

इन सारे डिवाइस कंप्यूटर को नियंत्रण करता है। आज के ज़माने में Input Device के विषय में लगभग सभी जानते है शायद आप भी जानते होंगे। परन्तु, Input Device के बारे में सम्पूर्ण जानकारी रहेना भी आवश्यक है। इसीलिए हम इस पोस्ट पर Input Device Kya Hai; Input Device के प्रकार के बारे में आपको सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे जो, आप सभी के लिए बहुत उपयोगी होने वाला है।

Input Device क्या है

Computer, Laptop आदि डिवाइस के साथ जुड़े रहेने के कारण हम सभी को इन electronic device  के विषय में थोड़ा बहुत जानकारी ज़रूर है। शायद आप भी कंप्यूटर के विषय में जानते होंगे। तब तो आप यह भी ज़रूर जानते है कि कंप्यूटर का दोनों पार्ट होता है जैसे Hardware और Software। कंप्यूटर के फिजिकल पार्ट को Hardware बोलते है जिसे, हम देख सकते है और स्पर्श भी कर सकते है।

अर्थात, कंप्यूटर के external device को हार्डवेयर बोला जाता है। इन एक्सटर्नल डिवाइस का भी दोनों भाग होता है एक Input Device और, दूसरा है Output Device। Input Device का शब्दगत अर्थ है निबिष्ट उपकरण। इसके जरिए यूजर यानि हम कंप्यूटर के साथ कम्युनिकेट कर पाते है। अर्थात, इस यूनिट के जरिए यूजर के द्वारा कंप्यूटर को निर्देश व तथ्य प्रदान किया जाता है। और, कंप्यूटर उस निर्धारित निर्देश के तहत कार्य संपन्न करता है। 

अब यदि Input Device क्या है के विषय में विस्तार से बर्णना करे तो Input कुछ साधारण तथ्य(Raw Data) है जिसे यूजर अपने हिसाब से सही तरीके से कंप्यूटर में एंटर करते है। और, जिन सारे डिवाइस के माध्यम से इनपुट यानि तथ्य को कंप्यूटर में प्रवेश करवाया जाता है उसे इनपुट डिवाइस कहेते है। अर्थात, जिन सारे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के सहायता से कंप्यूटर में किसी भी तथ्य को इनपुट किया जाता है, उसे Input Device कहेते है।

इनपुट डिवाइस प्रोसेसिंग के लिए जरूरी किसी भी डाटा को ग्रहण करता है और निर्धारित किसी भी कार्य के लिए जरूरी डाटा कंप्यूटर CPU को प्रेरण करता है। Keyboard, Mouse, Scanner आदि ऐसे ही कुछ इनपुट डिवाइस का उदाहरण है। जैसे, कीबोर्ड के जरिए हम कोई भी निर्देश को text के रूप में कंप्यूटर को प्रदान करते है। ठीक वैसे ही माउस के सहायता से हम डिवाइस में निर्धारित icon को सेलेक्ट कर सकते है।  

इनपुट डिवाइस के प्रकार 

इनपुट डिवाइस क्या है के बारे में जानकारी प्राप्त करने के बाद, अब सवाल आता है कि Input Device Kitne Prakar Ke Hote Hai। तब इसके उत्तर  में बता दें कि Keyboard, Mouse, Scanner आदि इनपुट यूनिट का प्रकार है। ऐसे ही 10 प्रकार के इनपुट डिवाइस के बारे में हमने नीचे विस्तार से बताया है।

1. की-बोर्ड (Keyboard)

की-बोर्ड कंप्यूटर सिस्टम का एक महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइस है। इसे इनपुट यूनिट का एक पार्ट अर्थात, Keyboard Device कहेते है। इस डिवाइस के जरिए तथ्य और निर्देश दोनों ही text form में प्रदान किया जाता है। 

Keyboard

इस यूनिट के माध्यम से संख्या अर्थात, 1,2,3,4,5.. आदि और अक्षर अर्थात, A,B,C,D… आदि से संबंधित तथ्य कंप्यूटर में एंटर किया जाता है। Keyboard में बहुत सारे key रहेता है जैसे,

i) Alphabet Key – A, B,C से लेकर Z तक।

ii) Numeric Key- 0 से 9 तक।

iii) Function Key- F1-F12।

iv) Navigation Key- ⬅️➡️,⬆️⬇️ आदि।

v) Special Key- Capslock, और Enter key (↩️)।

की बोर्ड पर इन सारे keys के अलावा भी बहुत सारे key मौजूद रहेते है जैसे Delete, Insert, Space Bar, Shift, Backspace, Alter(Alt), Control (Ctrl), Home, End, Page up, Page down, Num Lock, Tab आदि।

2. माउस (Mouse)

कंप्यूटर सिस्टम में इस्तेमाल होने वाला और एक महत्वपूर्ण डिवाइस का नाम है Mouse। इसे Pointing Device बोलते है। माउस एकदम oval shape का होता है। यह दिखने में लगभग एक चूहे कि तरह होता है जिस कारण इसे Mouse बोला जाता है। एक साधारण माउस की उपर लेफ्ट, मिडिल, और राइट तीनों बटन रहेता है। 

Mouse

माउस का structural परिवर्तन होने के कारण इस डिवाइस को तीनों प्रकार में बांटा जाता है Mechanical Mouse, Optical Mouse, और Cordless Mouse आदि। इस  डिवाइस के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए Mouse के लेख को अच्छे से पढ़े।

3. स्कैनर (Scanner)

स्कैनर एक इनपुट डिवाइस है। किसी भी इमेज या फिर लेख को कंप्यूटर में एंटर करके उसे परिवर्तन, और संगशोधन आदि करने के लिए स्कैनर डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है। स्कैनर एकदम xerox machine की तरह ही होता है यह एक light sensitive machine है।

scanner

Scanner की सहायता से किसी भी डॉक्यूमेंट को प्रिंट किया का सकता है। Scanner तीनों प्रकार का होता है जैसे,

i) हैंडहेल्ड स्कैनर (Handheld Scanner):

हैंडहेल्ड स्कैनर के जरिए हम किसी भी फिजिकल डॉक्यूमेंट को डिजिटल डॉक्यूमेंट फॉर्म में बदल सकते है। यह स्कैनर आकार में छोटा होता है। और कम एक्सपेंसिव होता है। 

Handheld scanner, इसका नाम से ही पता चलता है की इस डिवाइस के जरिए जिस डॉक्यूमेंट को स्कैन किया जाता है उस निर्धारित डॉक्यूमेंट के उपर इस स्कैनर को हाथों से move करके स्कैन किया जाता है।

ii) फ्लैट बेड स्कैनर (Flatbed Scanner):

कंप्यूटर में फ्लैट बेड स्कैनर का ही इस्तेमाल किया जाता है। यह एक ऑप्टिकल स्कैनर है जहां किसी भी डॉक्यूमेंट को स्कैन करते वक़्त पेपर या फिर बस्तू को रखने के लिए एक फ्लैट सर्फेस का उपयोग किया जाता है।

iii) ड्रम स्कैनर (Drum Scanner):

किसी भी इमेज का highest resolution कैप्चर करने के लिए इस तरह का स्कैनर इस्तेमाल किया जाता है।

4. टच स्क्रीन (Touch screen)

यह बहुत एक्सपेंसिव डिवाइस है। टच स्क्रीन एक प्रकार का प्रकाश संगबेदनशिल स्क्रीन है। उपयोगकर्ता स्क्रीन में स्पर्श करके ही डिवाइस को कोई भी निर्देश दे सकते है। इस मशीन में विभिन्न तरह का निर्देश इमेज के द्वारा समझाया जाता है। 

और, इन सारे इमेज को टच करके ही निर्देश दिया जाता है। वर्तमान समय में बैंक ATM सेवा, एयरपोर्ट, रेल स्टेशन और स्मार्टफोन में ऐसा स्क्रीन का इस्तेमाल किया जाता है। और, स्मार्टफोन इस डिवाइस का सबसे बड़ा उदाहरण है।

5. ओ.एम.आर (OMR)

OMR का पूरा नाम है Optical Mark Character Reader। आज के समय में Railway, PSC आदि परीक्षा में OMR डिवाइस की सहायता से answer sheet को चैक किया जाता है।

यहां प्रत्येक प्रश्न के लिए अधिक विकल्प रहेता है और प्रश्न का उत्तर निर्धारित रूप से देने के लिए यहां सर्कल जैसा जगह रहेता है। सही उत्तर के जगह पर निर्धारित सर्कल को H.B pencil के द्वारा फिल करना पड़ता है। Answer sheet स्कैन करके OMR डिवाइस सही उत्तर का संख्या प्रकाश कर देता है।

6. ओ.सी.आर (OCR)

OCR का पूरा नाम है Optical Character Reader। यह एक तरह का ऑप्टिकल स्कैनर है। इस मशीन कि सहायता से इंक के द्वारा लिखा गया किसी भी कागज़ की सम्पूर्ण हिस्से को बहुत अच्छे तरीके से कंप्यूटर में इनपुट किया जाता है और, उस कागज़ का प्रतिलिपि कंप्यूटर स्क्रीन में दिखाई देता है। 

आमतौर पर, कंप्यूटर पर एंटर किया गया किसी भी तथ्य यानि Data का त्रुटि को इस डिवाइस के जरिए निर्धारण करके उसे editing के द्वारा संगशोधन किया जा सकता है।

7. ग्राफिक टैबलेट (Graphic Tablet)

Graphic Tablet का इस्तेमाल करके अलग अलग तरह का पिक्चर ड्रा किया जा सकता है। सिर्फ यही नहीं, Desktop Publishing और कंप्यूटर में डिजाइनिंग का कार्य करने में भी यह मशीन सहायता करता है। यह एक इलेक्ट्रिक मेटल वायर नेट के द्वारा तैयार किया गया बड़ा आकार का बॉक्स है। इसका उपरी भाग को कागज़ की तरह इस्तेमाल किया जाता है, जिस पर ग्राफिक टैबलेट का निर्धारित Pointing device pack व स्टाइलाम को पेन कि तरह इस्तेमाल करके तरह तरह का डिजाइन किया जाता है।

8. बारकॉड रीडर (Barcode Reader)

वर्तमान समय में आप जब शॉपिंग मॉल, डिपार्टमेंटल स्टोर आदि में खरीदारी करने जाते हैं तब खरीदा गया सामग्री का बिलिंग करते वक़्त एक मशीन का उपयोग किया जाता है ये ज़रूर देखें होंगे। और, वह मशीन एकदम नीचे दिए गए इमेज की तरह होता है। इस मशीन को Barcode Reader बोलते है। 

barcode reader

शॉप से जब हम कोई चीज़ खरीदते है तब उसकी पैकेट में ब्लैक एंड व्हाइट समानांतर मार्क रहेता है जिसे Barcode कहेते है। इसके द्वारा प्रत्येक सामग्री का मैन्युफैक्चरिंग डेट, बैच नंबर, प्राइस, एक्सपायरी डेट आदि के बारे में पता चलता हे। और, बारकोड रीडर डिवाइस की सहायता से इस बारकॉड को रीड किया जा सकता है। 

9. लाइट पेन (Light Pen)

लाइट पेन एक पेन की तरह दिखने वाला डिवाइस है जिसका एक तरफ एक प्रकाश संगबेदनशिल सेल (cell) रहेता है और, दूसरी तरफ का हिस्सा एक वायर के जरिए कंप्यूटर के साथ कनेक्ट रहेता है। 

मॉनिटर की स्क्रीन पर लाइट पेन का cell को स्पर्श करके प्रेस करने से मॉनिटर पर स्थित निर्धारित icon सेलेक्ट हो जाता है। इस तरीके से कंप्यूटर की स्क्रीन के उपर आसानी से स्केच किया जा सकता है।

इस डिवाइस का उपयोग वर्तमान समय में स्मार्टफोन मे किया जाता है। और, सिर्फ यही नहीं कंप्यूटर पर ग्राफिक्स डिजाइन करने मे भी Light Pen का उपयोग किया जाता है। 

10. एम.आई.सी.आर (MICR)

MICR का पूरा नाम है Magnetic Ink Character Reader। बैंक में किसी भी cheque, Bank draft  को जांच करने के लिए इस डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है। MICR मशीन के नीचे cheque या फिर Bank draft को रखने से यह मशीन उस निर्धारित cheque का लेख को पढ़ लेता है और उसका इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल तैयार करके कंप्यूटर को सेंड कर देता है। कंप्यूटर उस सिग्नल को एक विशिष्ट प्रक्रिया में जांच करता है। इस प्रक्रिया को Magnetic Ink Character Recognition बोलते है।


इनपुट और आउटपुट डिवाइस मे क्या अंतर है

अब तक इस पोस्ट के माध्यम से आपने इनपुट डिवाइस के बारे में ज्ञान प्राप्त किया है। और, आउटपुट डिवाइस के विषय में भी आपको थोड़ा सा जानकारी तो ज़रूर होगी। फिर भी आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें  कि Output Unit के सहायता से हम कंप्यूटर पर प्रोसेस किया गया डाटा का परिणाम प्राप्त कर पाते है। 

अब यह बात एकदम स्पष्ट है कि इनपुट यूनिट और आउटपुट यूनिट दोनों ही सम्पूर्ण अलग डिवाइस है। इन दोनों डिवाइस अर्थात, Input Device और Output Device के बीच कुछ अंतर है जिसके बारे में हमने नीचे बताया है।   

विषयInput DeviceOutput Device
शब्दगत अर्थInput Device का शब्दगत अर्थ है In= अंदर put= एंटर करना। Output Device का शब्दगत अर्थ है Out= बाहर  put= प्रकाश करना।
क्या हैइनपुट डिवाइस का अर्थ है निविष्ट उपकरण। जिन उपकरण अर्थात, component के सहायता से यूजर कंप्यूटर में निर्देश प्रदान कर पाते है उसे, इनपुट डिवाइस बोलते है।कंप्यूटर पर डाटा प्रोसेस होने के बाद निर्धारित डाटा (निर्देश) का रिजल्ट जिन डिवाइस की सहायता से हम प्राप्त कर पाते है उसे Output Device बोलते है।
कार्यइनपुट यूनिट का एकमात्र कार्य है यूजर से निर्देश व डाटा को प्राप्त करके उसे कंप्यूटर मेमोरी पर सेव करना और उस निर्धारित तथ्य को प्रोसेस करने के लिए CPU पर प्रेरण करना। इनपुट डिवाइस इस प्रक्रिया के तहत उपयोगकर्ताओं के साथ कंप्यूटर का कम्युनिकेशन बरकरार रखता है।यूजर के द्वारा प्रदान किए गए निर्देश प्रोसेसिंग यूनिट पर प्रोसेस होने के बाद, उसका परिणाम यानि प्रोसेस्ड डाटा को प्रकाश करके यूजर तक पोंहुचाना ही आउटपुट यूनिट का कार्य है।
उदाहरणInput Device का कुछ उदाहरण है- Keyboard, Mouse, Scanner, MICR, OMR।Monitor, Printer, Plotter आदि Output Device का उदाहरण है।  

Input Device के कार्य या उपयोग

अब तक इस लेख में आपने इनपुट डिवाइस क्या है, इसके प्रकार के बारे में पढ़ा है। और, इस डिवाइस के कार्य के विषय में भी आप थोड़ा सा अवगत हो गए होंगे। 

सरल भाषा में यदि इनपुट यूनिट के कार्य के बारे में बताया जाए तो यूजर के द्वारा दिए गए निर्देश को कंप्यूटर तक पोहुंचाने के लिए ही इनपुट यूनिट का उपयोग किया जाता है।

यह डिवाइस कुछ नियमों का पालन करते हुए अपना कार्य संपन्न करता है। Input Unit के उपयोगिता को हमने नीचे बताए गए नियोमों के द्वारा वर्णन किया है ताकि आपको समझने में आसानी हो।

  1. इनपुट डिवाइस उपयोगकर्ता के द्वारा प्रदान किया गया बाहर का तथ्य व निर्देश को text, audio आदि के रूप में Computer system में एंटर करता है, जो Input Device का एकमात्र और सबसे महत्वपूर्ण कार्य व उपयोगिता है। 
  1. यह डिवाइस यूजर से निर्देश ग्रहण करने के जरिए उपयोगकर्ता और कंप्यूटर के बीच संजोग तैयार करता है।
  1. यूजर के द्वारा दिया गया तथ्य को यानि साधारण तथ्य को कंप्यूटर पढ़ नहीं सकता है। इसलिए इनपुट यूनिट वह सारे निर्देश को कंप्यूटर को समझाने के लिए उसे मशीनी लैंग्वेज यानि बाइनरी फॉर्म में परिवर्तित करता है जैसे, (0,1)। 
  1. तथ्य को बाइनारी में परिवर्तित करने के बाद, वह तथ्य कंप्यूटर के मेमोरी पर स्टोर हो जाता है। फिर, यह स्टॉर्ड डाटा कंप्यूटर के प्रोसेसिंग इनपुट यूनिट अर्थात, CPU पर ट्रांसफर होकर प्रोसेस होता है। 

सभी इनपुट यूनिट अलग अलग तरीके से उपर में बताया गया कार्य को संपन्न करता है। जैसे, Mouse के सहायता से हम डेस्कटॉप से किसी भी icon को सेलेक्ट करके वहां Keyboard के जरिए text form में ज़रूरी निर्देश को इनपुट कर सकते है। या फिर, Microphone के सहायता से हम audio form में इनपुट एंटर कर सकते है।


Input Device से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न उत्तर

1. Input क्या है?

कंप्यूटर का कार्य है डाटा प्रोसेस करना और, इस डाटा प्रोसेसिंग प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण भाग है इनपुट।

2. Binary क्या है? 

बाइनरी एक नंबर सिस्टम है यहां सिर्फ दोनों संख्या  इस्तेमाल होता है 0 और 1। इसे बाइनरी लैंग्वेज कहेते है। और, कंप्यूटर इस लैंग्वेज को ही समझ पाता है जिस कारण इसे computer या फिर मशीनी लैंग्वेज बोलते है।

3. इनपुट यूनिट कितने प्रकार के होते है।

Input Unit मुख्य रूप से तीनों प्रकार का होता है जैसे keyboard device, pointing device, और data entry devices। 

4. Microphone क्या है?

माइक्रोफोन एक इनपुट यूनिट है। किसी भी शब्द को इस मशीन कि सहायता से रिकॉर्ड करके कंप्यूटर में सेव करके रखा जा सकता है। इंटरनेट में चैट करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

5. OMR और OCR में अंतर?

OMR और OCR के बारे में हमने उपर लेख में विस्तार से बताया है। परन्तु, OMR और OCR के बीच एक अन्य अंतर भी है जैसे OMR में कार्य करते वक़्त टाइपिंग की आवश्यकता नहीं होती है, और दूसरी तरफ OCR में कार्य करते वक़्त कभी कभी डॉक्यूमेंट को टाइप करने की आवश्यकता होती है।

Full Form

  • CPU- Central Processing Unit.
  • MOUSE- Mechanically Operated User Serial Engine.
  • LED- Light Emitting Diode.

सारांश

आज के इस पोस्ट पर हमने Input Device के बारे में पूरे विस्तार में बताया है। हमें उम्मीद है आज के इस ब्लॉग पोस्ट को पढ़कर आपको ज़रूर सभी इनपुट डिवाइस के बारे में सम्पूर्ण जानकरी प्राप्त हो गई होगी।

यदि इस पोस्ट को पढ़कर आपके मन में इनपुट डिवाइस से संबंधित कोई सवाल है, तो आप बेझिझक नीचे कमेंट बॉक्स पर कमेंट करके हमे पूछ सकते है। 

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

में LogicalDost.in पर Content Writer हूं। मुझे Banking, Finance और Computer के विषय में पोस्ट लिखना पसंद है और इसी के साथ मुझे Books पढ़ना बहुत अच्छा लगता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here