Keyboard क्या है; Keyboard कितने प्रकार के होते है?

आज इस आर्टिकल में आप Keyboard के बारे में जानकारी हासिल करेंगे। Keyboard का इश्तेमाल लगभग सभी कंप्यूटर यूजर करते है। यह कंप्यूटर को चलाने में हमारा मदद करता है। क्या आपको Keyboard का पूरा नाम पता है? नहीं ना, तो इस आर्टिकल में जानेंगे साथ में आप Keyboard के प्रकार, Keyboard के मुख्य कार्य क्या-क्या है इनके बारे में भी जानेंगे।  

कीबोर्ड क्या है

आप Keyboard का अविष्कार किसने किया? यानी (इतिहास) के बारे में भी जानेंगे तथा Keyboard का इस्तेमाल कैसे करते है? और Keyboard के Interface कितने प्रकार के होते है, इसके बारे में भी जानेंगे। तो चलिए शुरू करते है। 

क्या आप जानते है, Christopher Latham Sholes (14 Feb 1819 – 17 Feb 1890) एक अमेरिकी आविष्कारक थे जिन्होंने QWERTY Keyboard का आविष्कार किया था। तथा इन्हें “The Father of the Typewriter” यानि “Typewriter का पिता” के नाम से जानते है। तो आइये अब Keyboard क्या है? इसके बारे में जानते है। 


पेज का इंडेक्स

Keyboard क्या है? परिभाषा

Keyboard कंप्यूटर का एक इनपुट डिवाइस होता है। इसके मदद से कंप्यूटर में कोई भी जानकारी या कोई भी कमांड डिजिटल रुप में दर्ज करते है, जिससे दर्ज की गयी जानकारी को कंप्यूटर आसानी से समझता है और आपको पुनः उत्तर भी देता है। 

Keyboard, कंप्यूटर का एक अहम हिस्सा है। यह कंप्यूटर को तेज गति से कार्य करने में हमारी मदद करता है।  Keyboard से हम कम समय में अधिक कार्य करते है। यह बात आप अच्छे से जानते है, की Typing के लिए एक ही उपकरण सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाते है, जिसका नाम है, कंप्यूटर का Keyboard.

एक स्टैण्डर्ड Keyboard में 101 से 104 Keys दिए रहते है। जिसे कंप्यूटर के साथ PS2 या USB Cable से कनेक्ट किया जाता है। आजकल मॉडर्न Keyboard वायरलेस आते है जिनको Bluetooth या WiFi receiver के साथ कनेक्ट किया जाता है। 

कीबोर्ड की फूल फोरम

Keyboard का पूरा नाम: “Keys Electronic Yet Board Operating A to z Response Directly” होता है। तथा Keyboard को हिंदी में कुंजी पटल कहते है। यह एक महतपूर्ण प्रश्न है, जिसे बहुत सारे कॉम्पिटेटिव एग्जाम में पूछे जाते है।

Keyboard पर आपका टाइपिंग स्पीड कितना है, कमेंट में जरूर बताएं। क्या? आपको पता है की टाइपिंग स्पीड को WPM (Word Per Minute) में मापते है। यंहा Word Per Minute का मतलब है, की आप एक मिनट में कितना वर्ड को टाइप करते है। 


Keyboard का अविष्कार किसने किया? (इतिहास)

Keyboard  के खोज के पहले, Typewriter का खोज किया गया था। Typewriter को हिंदी में छपा खाना कहते है। शुरू मे जिस Typewriter का निर्माण किया गया था। उसमे A, B, C, से लेकर Z तक एक ही क्रम में Keys लगे हुए थे। जिससे टाइपिंग करना बहूत स्लो था। इसके अलावा उसमे Backspace Keys भी नही था। जिससे लोगों को टाइपिंग करने में काफि दिक्कत होता था। 

इसी परेशानी को दूर करने के लिए, Christopher Latham Sholes (14 Feb 1819 – 17 Feb 1890) एक अमेरिकी आविष्कारक थे जिन्होंने QWERTY Keyboard का आविष्कार किया था। तथा इन्हें “The Father of the Typewriter” यानि “Typewriter का पिता” के नाम से जानते है। उसी QWERTY Keyboard को समय के साथ और सुधार किया गया, जिससे इसे एक स्टैण्डर्ड Keyboard कहा जाता है। 

आजकल एक स्टैण्डर्ड Keyboard में 101 से 104 Keys दिए रहते है। जिसे कंप्यूटर के साथ PS2 या USB Cable से कनेक्ट किया जाता है। लेकिन उस समय कंप्यूटर में दिए गए लिमिटेड फीचर्स के अभाव में 100 से कम Keys लगे होते थे। 


Keyboard कितने प्रकार के होते है?

Computer Keyword अनेकों प्रकार के होते है। उदहारण के लिए: Mechanical Keyboard, Multimedia Keyboard, QWERTY Keyboard, USB Keyboard, Wireless Keyboard, तथा Gaming Keyboard इत्यादि। 

Keyboard व माउस एक इनपुट डिवाइस के उदाहरण है, आगे आप विभिन्न कीबोर्ड के प्रकार के बारे मे जानोगे।

15 प्रकार के Keyboard के बारे में जाने 

निचे आपको 15 प्रकार के Keyboards के बारे में बताया गया है। जिसके बारे में आप जानने को उत्सुक हो सकते है। 

1. QWERTY Keyboards

यह एक समान्य प्रकार का Keyboard है, जिसे लगभग सभी नार्मल कंप्यूटर यूजर इस्तेमाल करता है। चूँकि पहले समय के कंप्यूटर में Keys का अरेंजमेंट एक ही Row में QWERTY का होता है। इसी वजह से इसका नाम QWERTY रखा गया है। 

2. Mechanical Keyboard

यह सबसे पुराना समय का Keyboard मॉडल है। जब Keyboard का अविष्कार नहीं हुआ था, तब उस समय मैकेनिकल टाइपराइटर होता था। उसी मैकेनिकल टाइपराइटर को अपडेट करके Keyboard बनाया गया है। 

MECHNANICAL KEYBOARD

Mechanical Keyboard में Keys को मैकेनिकली फिट किया रहता है, जब आप Keys दबाते है, तो Keyboard में लगे इलेक्ट्रॉनिक सर्किट पर Keys हिट होता है, और पुनः इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल उतपन होता है। जिसे बाद में कंप्यूटर दुवारा उस सिग्नल को रिसीव किया जाता है। और इस प्रकार आप कंप्यूटर डिस्प्ले पर Text लिखा हुवा देखते है। 

3. Wireless Keyboard

जैसे की इसके नाम से लग रहा है, इस प्रकार का Keyboard Wireless यानी बिना तार का होता है .जिसको कंप्यूटर या लैपटॉप में Bluetooth या Wi Fi के जरिये कनेक्ट किया जाता है।

यह लाइट वेट यानि हल्का होता है, और कम साइज में होते है। इसमें कम्युनिकेशन के लिए Transmitter तथा Transceiver होते है। Transmitter का कार्य दबाये गए Keys का डाटा जिसे हम इनपुट डाटा भी बोल सकते है, को Receiver तक पहुँचाना होता है। 

Receiver इनपुट डाटा को पुनः कंप्यूटर तक पहुँचता है, और कंप्यूटर फिर आपको उस टेक्स्ट को डिस्प्ले पर दिखता है। Transmitter, Keyboard के अंदर होते है तथा Receiver एक USB Port के साथ लैपटॉप से कनेक्ट किया रहता है। 

4. Virtual Keyboard

Virtual Keyboard को On-Screen Keyboard भी कहते है। क्यूंकि जैसे इसके नाम से लग रहा है, की यह एक फिजिकल Keyboard नहीं है। उदहारण के लिए: मोबाइल या टैबलेट का Keyboard इत्यादि। उसी तरह कंप्यूटर या लैपटॉप में भी On-Screen Keyboard दिया जाता है। 

virtual keyboard PHOTO

इसका इस्तेमाल आप अलग-अलग शर्त में कर सकते है। जैसे: मान लीजिए आपके पास Physical Keyboard नहीं है या फिर ख़राब हो चूका है, तब आप Virtual Keyboard Keyboard का इस्तेमाल कर टाइपिंग कर सकते है। 

इसके अलावा भी गुप्त जानकारी जैसे आपका पासवर्ड हो गया, को दर्ज करने के लिए वर्चुअल इसका इस्तेमाल किया जाता है। 

5. USB Keyboard

USB Keyboard एक प्रकार का Wired Keyboard होता है, जिसे आजकल लगभग सभी नार्मल कंप्यूटर यूजर इस्तेमाल करते है। USB का पूरा नाम Universal Serial Bus होता है। 

इस प्रकार के Keyboard को USB Keyboard इसलिए कहते है, क्यूंकि आपके कंप्यूटर के साथ कम्यूनिकेट करने के लिए यह USB पोर्ट का इस्तेमाल करता है। जो की USB (2.0, 3.0) इत्यादि का होता है। 

लेकिन कई बार जब आप नए ऑपरेटिंग सीसैटेम को इनस्टॉल करते है, तो Keyboard ऑपरेट नहीं होता है, इसका कारन है की आपके लैपटॉप में सही ड्राइवर इंसटाल नहीं है, तो आप इंसटाल कर लीजियेगा। 

6. Gaming Keyboard

जैसे की इसके नाम से लग रहा है की यह गेम खेलने के लिए बनाया गया है। यदि आप भी एक Gamer हो तो तो आपके लिए Keyboard बेहद उपयोगी है। इसमें वे सभी बटन जो की गेम प्ले करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है दिए रहते है।

GAMING KEYBOARD PHOTO
IMAGE CREDIT: https://unsplash.com/

इस प्रकार के Keyboard को खासतौर पर गेमिंग एक्सपीरियंस को बढ़ाने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे आपके गेम जितने के चांस बढ़ सकते है। वे सभी गेमर्स जो घंटो समय अपना गेम खेलने में ही स्पेंट करते है, उनके लिए Gaming Keyboard एक वरदान है। 

7. Membrane Keyboard

ये Keyboard प्रेशर पैड का उपयोग करते हैं और इसमें एक लचीली सतह पर अक्षर छपे होते हैं जिन्हें झिल्ली (Membrane) कहा जाता है। इन की-बोर्ड की कीमत बहुत कम होता है। लेकिन टाइपिंग और गेमिंग में यह बहुत गलती करते है या (एरर) देते है, और इस कारण से इनका इम्पोर्टेंस बहुत काम है। 

8. Thumb Keyboard

जैसे की इसका नाम से लग रहा है की इस प्रकार का Keyboard का साइज एक थंब के बराबर होता है, इसलिए इसे Thumb Keyboard कहा जाता है। इस प्रकार के Keyboard्स में बहुत ही कम Keys का इस्तेमाल किया जाता है, जिनमे से ज़्यदातर, Numeric Keys होते है जो की कैलकुलेशन (Arithmetic Operations) के लिए इस्तेमाल किये जाते है। या उनमें से ज्यादातर Keys गेमिंग के लिए दिए रहते है। 

THUMB KEYBOARD PHOTO

9. Backlit Keyboard

चूँकि इस प्रकार के Keyboard में Light का इस्तेमाल किया जाता है, इस वजह से इसे Backlit Keyboard कहा जाता है। Backlit अँधेरे के समय में टाइपिंग करने में मदद करता है। Backlit Keyboard और एक General Purpose Keyboard में कोई ज्यादा अंतर नहीं होता है। बस इनमें Keys के निचे LED लाइट का इस्तेमाल किया जाता है। 

10. Bluetooth Keyboard

यह एक प्रकार का वायरलेस Keyboard होता है। चूँकि इसमें आपके Keyboard और कंप्यूटर के बिच कम्युनिकेशन के लिए Bluetooth Connectivity Technology का इस्तेमाल किया जाता है इस वजह से इसे Bluetooth Keyboard कहा जाता है। 

इस प्रकार के Keyboard्स बहुत ही पोर्टेबल होते है। यँहा  पोर्टेबल का मतलब है की एक ही Keyboard को आप मल्टीप्ल डिवाइस के साथ कनेक्ट कर सकते है। उदाहरण  ,आप एक Bluetooth Keyboard को अपने लैपटॉप, डेस्कटॉप, टेबलेट, Chromebook, iPad, iPhone, Apple TV 2nd or 3rd generation और Android इत्यादि के साथ कर सकते है। 

11. Magic Keyboard

इस प्रकार के Keyboard्स MAC Company के द्वारा निर्मित होते हैं और बैटरी द्वारा समर्थित होते हैं। चूँकि इनका डिजाइन भूत अच्छा होता है और फीचर्स भी दिए रहते है, जिससे की इसे एक Magic Keyboard का अहसास कराता है।

12. Ergonomic Keyboard

परिभाषा के अनुसार, एर्गोनोमिक का मतलब है,  वो हर चीज जो मानव शरीर के स्वास्थ्य के लिए अनुकूलित है। 

तो ठीक जैसे इसके नाम से लग रहा है, की Ergonomic Keyboard को आमतौर पर अधिक आरामदायक देने और आराम मुद्रा के साथ टाइपिंग गति बढ़ाने के लिए बनाया गया है। ये Keyboard आपके हाथों, कलाई और उंगलियों पर तनाव से भी बचते हैं।

यदि आप भी Keyboard पर घंटो कार्य करते है, और आपके अधिक कार्य करने से या गलत टाइपिंग पोस्चर वजह से दर्द होता है। तो आपके लिए Ergonomic Keyboard सबसे अच्छा ऑप्शन है। क्यूंकि इस Keyboard में दूसरे Keyboard के तुलना में बहुत अंतर है। 

इसका डिज़ाइन एक उन्नत तरीके से इस प्रकार किया गया है, ताकि उपयोगकर्ता अधिक आरामदायक और आराम से टाइपिंग की स्थिति अपना कार्य कर सके। 

13. Multimedia Keyboard

जैसे की इसके नाम से पता चल रहा है, की जिस Keyboard में सभी मल्टीमीडिया बटन होते हैं उसे मल्टीमीडिया Keyboard कहा जाता है। इस प्रकार का Keyboard का ज्यादातर इस्तेमाल Multimedia Industry में तेज गति से ऑडियो-वीडियो प्रोडक्शन करने के लिए किया जाता है। 

Multimedia Keyboard
IMAGE CREDIT: COMMON WIKIMEDIA ORG

इसमें Audio-Video लॉन्च करने के लिए बटन में प्ले,Pause, Next, Previous, Volume UP, Volume Down, Mute और विशेष बटन शामिल होते हैं। इसके अलावा, ब्राउज़र, Media Software, कैलकुलेटर इत्यादि लांच लॉन्च करने के लिए एक बटन उपलब्ध रहते है।

14. LASER Projection Keyboard

इसका पूरा नाम Wireless Mini Projection Virtual Bluetooth Laser Keyboard है। यह सबसे लेटेस्ट, एडवांस और Futuristic, Keyboard है। आप निचे इमेज म देख सकते है। 

amazon virtual keyboard PHOTO
IMAGE CREDIT: Amazon

इस Keyboard के लिए एक खाश प्रकार का LASER इस्तेमाल किया जाता है। यह लेज़र एक समतल सरफेस पर वर्चुअल Keyboard उत्पन करता है। उसी वर्चुअल Keyboard पर Numeric & Alphabet keys रहते है। 

Keys को ऊँगली से Touch करने पर LASER Device डाटा को दर्ज करता है, और पुनः कंप्यूटर तक पहुँचता है, जिससे आप स्क्रीन पर Text को देख पाते है। 

इस प्रकार का Keyboard बहुत महंगे मिलते है, और अभी आपको सभी मार्किट में उपलब्ध नहीं मिलेंगे, क्यूंकि इस प्रकार का Keyboard भविष्य की शुरुवात है। 

15. Portable Keyboard

इसको Portable Keyboard Wireless Bluetooth Folding भी कहते है। चलिए आपको इसके इतने बड़े नाम का मतलब समझाते है। यह Keyboard फोल्डेबल होता है। मतलब आप इसको मोड़ कर अपने पॉकेट में या छोटे से बैग में रख सकते है। जिससे की इसे पोर्टेबल Keyboard भी कहा जाता है। 

Foldable KEYBOARD PHOTO

पोर्टेबल का मतलब की आप इस Keyboard को एक-जगह से दूसरे जगह आसानी से ले जा सकते हो और आप इसे किसी भी डिवाइस के साथ कनेक्ट भी कर सकते है। इसका भी कीमत  नार्मल Keyboard से जयादा होता है। 

तो ये है हमारे लिस्ट में 15 प्रकार के Keyboard, चलिए अब Keyboard के कौन-कौन भाग है? इसके बारे में जानते है।


Keyboard का क्या कार्य है?

Keyboard का मुख्य कार्य कंप्यूटर में इनपुट डाटा को दर्ज करना होता है। जिससे कंप्यूटर पुनः उस डाटा को Interpret यानी समझकर आपको उसका आउटपुट प्रदान कर सके। जिसे आप अपने कंप्यूटर मॉनिटर या डिस्प्ले में देखते है।

इसके अलावा Keyboard का इस्तेमाल खासतोर पर टाइपिंग करने और कंप्यूटर को अधिक तेज गति से चलाने के लिए भी करते है।


Keyboard के बटन की जानकारी

Keyboard के कौन-कौन बटन या Keys होते है, उनके प्रकार के बारे में आप निचे जानेंगे। जैसे की आपको पता है की एक Keyboard में अलग-अलग प्रकार के Keys लगे रहते है। जिसका इस्तेमाल अलग-अलग कार्य के लिए होता है। 

KEYBOARD PARTS NAME
IMAGE CREDIT: ALL ABOUT COMPUTER

उदहारण के लिए: Numeric Keys का इस्तेमाल आप कंप्यूटर में न्यूमेरिकल डिजिट (0-9) तक टाइप करने के लिए करते है। उसी तरह आप Cursor keys का इस्तेमाल से कंप्यूटर स्क्रीन पर कर्सर को इधर-उधर मूव करते है। 


Keyboard के बटन / Keys के प्रकार

  1. Escape Key: Escape Key, Keyboard पर एक फ़ंक्शन Key है। इसका इस्तेमाल किसी कंटीन्यूअस या sequential ऑपरेशन को निष्पादित या ख़ारिज करने के लिए किया जाता है। 
  2. Tab Key: इसका इस्तेमाल एक एलिमिनेट से दूसरे एलिमेंट पर जाने के लिए एक कमांड  रूप  इस्तेमाल होता है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल एक लेटर से दूसरे लेटर के बिच स्पेस देने के लिए भी किया जाता है। 
  3. Alt Key: वर्ड प्रोसेसिंग और वेब ब्राउज़र सहित अधिकांश कंप्यूटर प्रोग्रामों में विभिन्न कमांड को पूरा करने के लिए Alt Key का उपयोग एक या अधिक अन्य कुंजियों के साथ में किया जाता है।
  4. Ctrl Key: CTRL Key भी Alt Key के तरह दूसरे Keys के साथ मिलकर काम करते है उदारण के लिए “CTRL+C” या “CTRL+V” जैसे कई अलग-अलग उपयोग हैं।
  5. Space Bar Key: यह  लिखते समय एक स्पेस देने के काम है। 
  6. Enter Key: यह सहमति के लिए काम आता है। 
  7. Caps Lock Key: यह लेटर को बड़ा या छूटा लॉक करके टाइप करने के काम आता है। 
  8. Shift Key: यह कंप्यूटर या टाइपराइटर Keyboard पर एक Modifier Key है।
  9. Backspace Key: इसका इस्तेमाल से आप पिछला टाइप किया गया लेटर को डिलीट कर सकते है। 
  10. Cursor Key: इसे Arrow Keys भी कहते है, इसका इस्तेमाल कर्सर को आगे, पीछे दाएं, बाएं मूव करने के लिए करते है। 
  11. Numeric Keys: 0-1 तक के Keys, Numeric Keys कहलाते है। 
  12. Alphabet Keys: A-Z तक के Keys को Alphabet Keys कहते है। इसका इस्तेमाल से आप किसी का भी नाम को लिख सकते है। 
  13. Function Keys: F1 से लेकर F12 तक को फंक्शन Keys कहते है , यह किसी खाश Command को पूरा करता है। उदहारण के लिए, F1: Show Help, F2: Rename File.
  14. Special Key: यह सभी Keyboard में नहीं दिया रहता है। 
  15. Windows Key: Windows Key का उपयोग विंडोज़ में आपके सभी चल रहे कार्यों के साथ किया जाता है। जैसे: सर्च बार खोलने के लिए (Windows Key), नए प्रोग्राम शुरू करने और खुले कार्यक्रमों को बंद करने के लिए भी किया जा सकता है।

Keyboard के 36 शार्ट Keys जो File Explorer में काम आएंगे। 

Short KeysUses
1. Windows Key + EOpen file explorer
2.Ctrl + NOpen new window
3. Alt + tabNavigate window holding
4. Windows Key + Arrow keysSplit windows
5. Ctrl + WClose window
6. Ctrl+Alt+tabNavigate window without hoding Control
7.Ctrl+Shift + NCreate new folder
8.DeleteDelete selected files and folders temporary
9.Shift + deletePermanently delete
10.Ctrl + CCopy files and folders
11.Ctrl + VPaste files and folders
12.Ctrl + XCut the files and folders
13.f2Rename files and folders
14.EscCancel Operation
15.f5/ Ctrl+RRefresh files and folders
16.Arrow keysNavigate Cursor
17.Enter Open selected files and folders
18.Press Respective Lettersfor selecting files and folders
19.Ctrl+ZUndo deleted files or folders
20.Ctrl + YRedo deleted files or folders
21.Windows Key + lower keyMinimise or split
22.F11Maximise or minimise the active window
23.Windows Key + MMinimise all windows at a time
24.Ctrl + ASelect all files and folders
25.CtrlCustom files and folders select
26.AltDisplay short keys
27.TabNavigate elements in current window
28.Ctrl + DDelete selected items or folders temporary
29.Alt + DSelect the address bar
30.Alt + EnterOpen the Properties dialog box for the selected item.
31.Alt + Left arrow/backspaceView the previous folder
32.Alt + Right arrowView the next folder
33.Alt + Up arrowView the folder that the folder was in
34.End/Pg DnDisplay the bottom of the active window
35.HomeGo to Home of Pages
36.Pg UpDisplay the top of the Page

Keyboard का इस्तेमाल कैसे करें?

  1. सबसे पहले आप पता कीजिये की आपका कौन सा Keyboard है। 
  2. यदि आपके पास PS/2 या USB Cable का Keyboard है, तो आप उसे Cable के अनुसार लैपटॉप में कनेक्ट कीजिये। फिर आपका जब LED ऑन होगा तब आप कोई Word Editor Software को ओपन कीजिए और टाइपिंग से जाँच कीजिए। 
  3. और यदि आपका Keyboard Bluetooth है तो फिर अपने डिवाइस के ब्लूटूथ को ऑन कीजिये और New Device को ऐड करके अपने Keyboard को कनेक्ट कीजिये। 
  4. और यदि आपका Keyboard Wi Fi वाला है, तो आप सबसे पहले बैटरी को चेक कीजिये, Do Cell Battery दिए रहते है। फिर आपको एक USB 3.0 Port का 2.4 Ghz रिसीवर मिलता है, उसे अपने डिवाइस के USB Port में कनेक्ट कीजिये। 
  5. फिर स्टेप 2 के अनुसार टाइपिंग करके चेक कीजिये। तो इस तरह आप अपने Keyboard का इस्तेमाल कर सकते है। 

Keyboard Interface या Cable के प्रकार

निचे Keyboard में इस्तेमाल किये गए सभी प्रकार के Interface के बारे में बताया गया है। 

1. AT Keyboard Interface: यह सबसे पुराना Keyboard Interface का प्रकार है। इसे IBM PC/AT कंप्यूटर के साथ 1984, में इस्तेमाल किया गया था। यह 5 Pin DIN Connector के साथ जुड़ता है। 

2. PS/2 Keyboard Interface: PS/2 Keyboard इंटरफ़ेस को 1986 में IBM PS/2 सीरीज़ के साथ इस्तेमाल किया गया था, और अब इसका उपयोग सभी ATX और ATX-वेरिएंट मदरबोर्ड के द्वारा किया जाता है।

3. Keyboard Interface: यंहा USB का पूरा नाम, Universal Serial Bus होता है। इस प्रकार के Keyboard Interface को USB Port के साथ कनेक्ट किया जाता है। 

4. Bluetooth: इस प्रकार के Keyboard Interface को डिवाइस के साथ Bluetooth के साथ कनेक्ट किया जाता है। 

5. RF Transmitter Receiver (Wi Fi): इसे दिए गए USB रिसीवर को कंप्यूटर या लैपटॉप के साथ USB Port के साथ कनेक्ट किया जाता है। 


कीबोर्ड में कितने प्रकार के बटन होते हैं? (संरचना)

कीबोर्ड में निम्नलिखित प्रकार के बटन होते हैं? जिसको Keyboard Layout यानि संरचना भी कहते है। समय के अनुसार अनेकों प्रकार के बटन का इस्तेमाल किया गया।

1.QWERTY Layout

इस प्रकार के Keyboard Layout को 1968 में बनाया गया था।  यह एक स्टैण्डर्ड Keyboard भी है।  चूँकि इसका यह QWERTY नाम, इसलिए पड़ा है क्यूंकि जब आप Keyboard के सबसे ऊपर वाले Alphabet Keys को देखते है, तो उसका सीक्वेंस,  Q-W-E-R-T-Y होता है। 

QWERTY Keyboard दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय Keyboard है। जिसमें लगभग 101-104 Keys लगे होते है। 

इस प्रकार का Keyboard एक सामान्य कार्य के लिए उपयोग किया जाता है। आप अपने घर या आसपास में इस Keyboard Layout को देख सकते है। 

2. AZERTY Layout

यदि आप ध्यान से QWERTY Keyboard को देखे तो आपको यह मालूम चलेगा की, AZERTY Keyboard में Q को A से और W को Z से रेप्लस कर दीया गया है। बाकी सभी Letters सामान्य है। 

AZERTY Layout का Keyboard एक French Version Keyboard है, जिसे फ्रेंच स्टैण्डर्ड Keyboard भी कहते है। यह AZERTY Layout यूरोप में बहुत लोकप्रिय है। 

3. Dvorak Layout

 इस प्रकार के Keyboard Layout को August Dvorak ने Introduce किया था। चूँकि QWERTY Keyboardमें अधिक तेज टाइपिंग नहीं हो सकता था, तो इसी समस्या को दूर करने  और स्पीड  टाइपिंग करने के लिए Dvorak Keyboard को डिज़ाइन किया गया। 

अधिकत्तर प्रोफेशनल टाइपराइटर स्पीड में टाइपिंग करने के लिए Dvorak Keyboard लेआउट का इस्तेमाल किया जाता है। इसके Keyboard में key का Arrangement इस तरह फिट किया रहता है, की उंगली का तेज-तेज मूवमेंट हो।  

4. Colemak Layout

यह सबसे आधुनिक Keyboard लेआउट है। इस प्रकार के Keyboard Layout को भी तेज गति से टाइपिंग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। 

इसे QWERTY और Dvorak Keyboard लेआउट का अपग्रेडेड वर्शन माना जाता है। सच में इस Keyboard के दुवारा वैज्ञानिक रूप से तेज गति में टाइपिंग कर सकते है। 

5. Workman Layout

यह ऊपर दिए गए सभी Keyboard Layout से अलग है। इसे प्रोग्रामर या सॉफ्टवेयर डेवलपर के उँगलियों के आराम से लिए डिज़ाइन किया गया है। जिससे कम्फर्ट रूप से टाइपिंग कर सकते है। 


Keyboard बेचने वाली टॉप 10 कम्पनियों के नाम 

वैसे तो आपको एक-से-एक Keyboard मार्किट में मिल जाते है। उनमे से कुछ महंगे तो कुछ सस्ते भी है। कुछ टॉप ब्रांड के Keyboard भी मिलते है। लेकिन क्या आप भारत में Keyboard बेचने वाली टॉप 10 कम्पनियों के नाम मालूम है। नहीं ना, तो आप निचे जानेंगे। 

Keyboard बेचने वाली टॉप 10 कम्पनियों के नाम निचे दिए गए है। 

  1. Microsoft
  2. Logitech
  3. H.P
  4. Amazon Basics
  5. Dell
  6. Lenovo
  7. Intex
  8. Amkette
  9. Zebronics
  10. iBall

Keyboard से सम्बंधित आपके सवालों के जवाब 

1. Keyboard क्या है? और इसका मुख्य कार्य क्या है?

Keyboard एक कंप्यूटर का इनपुट डिवाइस है। तथा इसका मुख्या कार्य कंप्यूटर को इनपुट डाटा देना ताकि उस डाटा को कंप्यूटर बाद में समझकर आपको स्क्रीन पर उसका ऑउटपुर प्रदान कर सके। 

2. Keyboard का अविष्कार कब हुवा और किसने किया था?

Keyboard का अविष्कार Christopher Latham Sholes जो एक अमेरिकी आविष्कारक थे जिन्होंने QWERTY Keyboard का आविष्कार 1868 में किया था और पेटेंट भी किया था। 

3. KEYBOARD का पूरा नाम क्या है?

KEYBOARD का पूरा नाम “Keys Electronic Yet Board Operating A to Z Response Directly” होता है। 

4. 5 प्रकार के Keyboard संरचना के प्रकार के नाम बताएं। 

1. QWERTY Layout
2. AZERTY Layout
3. Dvorak  Layout
4. Colemak Layout
5. Workman Layout

5. Keyboard के 5 भाग कौन से हैं?

1. Function Keys
2. Alphabet Keys
3. Numeric Keys
4. Cursor Key
5. Special Key

6. एक स्टैण्डर्ड Keyboard में कितने बटन होते हैं?

एक स्टैण्डर्ड Keyboard में 101 से लेकर 104 बटन होते हैं।

7. एक स्टैण्डर्ड Keyboard को QWERTY Keyboard क्यों कहा जाता है?

एक स्टैण्डर्ड Keyboard को QWERTY Keyboard इसलिए कहा जाता है ,क्यूंकि इसके अल्फाबेट में शुरू के अक्षर Q-W-E-R-T के सीक्वेंस में रहते है। 

8. 10 प्रकार के Keyboard के नाम बताये। 

1. QWERTY Keyboards
2. Mechanical Keyboard
3. Wireless Keyboard
4. Virtual Keyboard
5. USB Keyboard
6. Gaming Keyboard
7. Membrane Keyboard
8. Thumb Keyboard
9. Backlit Keyboard
10. Bluetooth Keyboard


निष्कर्ष

आज आपने इस आर्टिकल की Keyboard के बारे में जानकारी हासिल किया। जैसे की आपने जाना की Keyboard क्या होता है? Keyboard का अविष्कार किसने किया? और कैसे हुआ था। आपने फिर Keyboard कितने प्रकार के होते है? इसके बारे में जाना जैसे: QWERTY Keyboards, Mechanical Keyboard, Wireless Keyboard, Virtual Keyboard, USB Keyboard इत्यादि। 

आपने फिर जाना की Keyboard के कौन-कौन भाग है? यानी Keyboard के अलग-अलग लेआउट (संरचना) के बारे में जाना जैसे: QWERTY Layout, AZERTY Layout, Dvorak  Layout और Colemak Layout इत्यादि। फिर आपने Keyboard का इस्तेमाल कैसे करते है? किसे बारे में जाना। इसके साथ ही आपने File Explorer में काम वाले  36 Short Keys के बारे में जाना तथा Keyboard Interface या Cable के प्रकार को भी जाना।

तथा अंत में आपने Keyboard बनाने वाली टॉप 10 कमापनियों के नाम को भी जाना, जो की Keyboard मॉफक्टोरिंग के फील्ड में टॉप ब्रांड है। उम्मीद है की Mouse के बारे में यह आर्टिकल आपको बहुत इन्फोर्मटिव लगी होगी। किसी भी प्रकार के सुझाव और शिकायत के लिए निचे कमेंट करें हम आपका रिप्लाई जरूर देंगे। 

आपके काम की अन्य पोस्ट:-

मुझे टेक्नोलॉजी के बारे में पढ़ना और लिखना बहुत अच्छा लगता है। इंटरनेट टेक्नोलॉजी के बारे में लोगों के साथ जानकारी शेयर करके मुझे खुशी महसूस होती है। इसके अलावा फोटोग्राफी करना मेरी हॉबी है। मैंने एक इंजीनियर के रूप में शिक्षा ली है और पेशे से अब मैं एक पार्ट-टाइम Professional Blogger हूँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here